Thursday, July 29, 2010

Raman Singh: Naxals are aiming Delhi, not Chhattisgarh

Says govt committed to uproot naxals

Raipur, July 27

Denying the apprehensions of the opposition that the
naxals are aiming to come on power in the Chhattisgarh through
undemocratic ladder, Chief Minister Raman Singh said they had rather
bigger ambition and they actually want to steer the country as had
happed in Nepal. Singh’s denial came during the discussion on
adjournment motion called by Opposition on rising naxal violence in
the Chhattisgarh during the monsoon session of the state Assembly on
Tuesday.
Singh said the naxalism had become major challenge for the entire
nation and it could be tackled only through the joint effort. “The
state government is committed to deal this issue and we are getting
full support from the Centre,” he said.
“The Opposition should not mislead common people regarding
government’s initiatives to solve the naxal problem. We have
maintained continuous dialogue with the Centre and both the Prime
Minister and the Union Home Minister have appreciated our attempts.
When there is perfect understanding between the Chhattisgarh
government and the Centre, why the middlemen are trying to prove that
our relations are tensed,” asked Singh.
Putting all the allegations leveled by the opposition aside, Singh
said the Maoist agitation began in the state back in early seventies
and it via West Bengal, Maharashtra and Andhra Pradesh.
“We launched offensive against the naxals ever since we came into
power. But what had the previous governments done to solve the issue?
When the problem is age old, it should have been checked during its
inception,” Singh said.
On Opposition’s advice to adopt Andhra Pradesh model to eradicate
Maoists, Singh said the BJP government did follow the neighbouring
state’s path and opened schools to train its jawans in jungle warfare,
but why the Congress did not adopt similar successful methods when it
was in power.
Strongly objecting the comments of Congress leaders including AICC
general secretary Digvijay Singh that the BJP won the legislative
elections in the Bastar regions because of Raman Singh’s ploy to buy
the seats, Singh said the statements show mere frustrations of the
Congress leaders as his party struggled hard and got the mandate of
the local people by winning their confidence.
Pointing towards the human activists who emerge only when the
government takes action against the naxals, Singh said they were
double faced and concoct a different narrative to tarnish the image of
police and to glorify the naxals. “It is sad that these human
activists shed their tears only when the Maoists are killed and become
stolid when several jawans and innocent people become victims of the
extremists,” Singh said.

Statements of CM, HM on naxal domain contradictory: Ravindra Choubey

Raipur, July 27

The statements of Chief Minister Raman Singh and Home
Minister Nankiram Kanwar on naxal domain in the state are
contradictory and proved why the government failed to combat the
Maoists successfully. The strictures against the government came from
Leader of the Opposition Ravindra Choubey during the discussion on
adjournment motion called by Opposition on rising naxal violence in
the Chhattisgarh during the monsoon session of the state Assembly on
Tuesday.
Terming Kanwar as the weakest Home Ministers of the state, Choubey
said it was unfortunate that he had not learn how to give statements
in spite of holding such a significant portfolio. “The HM claims that
the extremists had not increased their gamut in the state while the CM
informs the Centre that about 13 districts are reeling under the
Maoists menace. This is strange and indicates that the CM and his
ministers are polarised,” he said.
“Several heartrending incidents occurred amidst the budget and monsoon
sessions, but instead of mulling over the solution of naxal problem,
it is an irony that the HM continuously delivers uncalculated words
while the top cops do not miss the opportunity to make empty claims
before electronic media,” Choubey said.
Pertaining to the implementation of the suggestions on naxal issue
given by the legislators of both ruling and Opposition parties during
close door meeting called upon by the BJP government two years back,
Choubey asked from the CM why he did not implement any of the inputs
that could have transformed the scenario by far.
He alleged that majority of essential items including ration, uniform,
etc were being supplied to the naxals from capital and other cities
but the government was deliberately refraining to take any action
against the network of people who were involved in it.
He said the government should trust on the existing forces deployed in
the naxal-affected areas instead of demanding army. “Equip our jawans
with the hi-tech gadgets and weapons and increase the seats in jungle
warfare school so that we could get more number of personnel to combat
the extremists,” Choubey said.
He said the Bastarians had lost faith on the government which could be
regained only through the development works. He demanded from the
government to ensure that the Bastarians get job in giant companies
like Essar and Tata that had got permission to explore state’s
abundant mines in tribal areas.

Ajit Jogi: Army deployment not feasible in naxal belts

Advises govt to adopt Andhra Pradesh model to tackle naxal menace

Alleges CM was highest bidder for legislative seats during VS polls

Raipur, July 27

Flaying the state government for not framing any
effective strategy to eradicate naxalism, senior Congress leader and
former CM Ajit Jogi said that Chief Minister Raman Singh’s proposal of
army deployment in the Maoist-hit areas was not feasible. The entire
proposal indicates that the BJP-led state government was not serious
in solving the issue and it just wanted to throw the ball in the
Centre’s court, Jogi said during the discussion on adjournment motion
called by Opposition on rising naxal violence in the Chhattisgarh
during the monsoon session of the state Assembly on Tuesday.
Jogi said the government did not ponder about the aftereffects of army
deployment before making such demand from the Centre. He said the
conditions in Chhattisgarh had not aggravate to that extent that army
was thought to be the last resort. “The government can deal the
problem with the existing paramilitary forces, but it must use it
properly,” he said pointing that the Centre usually presses the army
in those states that are located at national borders like Jammu and
Kashmir and north-eastern states.
Jogi advised the government to adopt the Andhra Pradesh formula to
uproot the naxals. “Although the number of our jawans is much more
than the total number of Maoists in the state, but during encounters,
the extremists overpower us because they are well versed with the
demography of the Bastar region and are experts in guerilla war. The
government should first train the CRPF jawans before sending them in
the dense forests,” he said.
Pointing towards the Raman government’s success in the past two
Assembly elections in the Bastar region, Jogi alleged that it happened
back-to-back because the CM himself was the highest bidder for
legislative seats.
Expressing his concern over the expanding domain of naxals in the
state, Jogi referred to a report that said that the Maoist terror
could be felt in all the districts except Janjgir-Champa.
He said the government incurred maximum loss in terms of property and
lives due to landmine laid by the naxals in every party of the Bastar
region including kuchcha and pucca roads. “The United States of
America (USA) faced similar situation in Afghanistan, but it had host
of hi-tech landmine detectors. When Centre is ready to flow the fund,
why Raman-government is not purchasing such gadgets?” he asked. He
also condemned the government for not buying quality bullet proof
jackets for the jawans.
Ridiculing the salva judum campaign launched by the BJP government,
Jogi asked how the government could initiate such drives based on
peaceful agitation when the naxals were relentlessly killing the
innocent people. He said the supporters of salva judum had directly
come into the hit list of Maoists and they would kill them one-by-one.

182 posts vacant in five govt agriculture colleges

Raipur, July 26

Agriculture Minister Chandrashekhar Sahu has informed
that about 182 posts including teaching and non-teaching staff are
vacant in state’s five government agriculture colleges. Sahu’s
information came in the form of written answer to a question of
Congress MLA Dr Premsai Singh Tekam during the state Assembly’s
monsoon session on Monday.
Tekam has asked from the minister to provide detailed information
about the total number of government agriculture colleges being
operated in the state, the dates of their establishment and the number
of students in each institution. Tekam also inquired from the minister
about the total number of posts approved for each college besides the
status of vacancies and the time period the government would take in
filling all the vacant posts.
Sahu informed the House that the government had opened five
agriculture colleges in the state at Raipur, Ambikapur, Bilaspur,
Jagdalpur and Kawardha.
The first government agriculture college was opened in Raipur in 1961
and about 576 students have been enrolled in it. In 2001, three more
colleges were opened in Ambikapur, Bilaspur, Jagdalpur and the
strength of students in each college is 196, 220 and 212 respectively.
In 2007, the government established an agriculture college in Kawardha
where 159 students are studying.
Sahu informed that 60 teaching staff and 122 non-teachings staff were
vacant in the five colleges. In Raipur, 90 teaching posts have been
approved of which 22 are vacant while among 94 non-teaching approved
posts, 15 have still not been filled.
In Ambikapur, there are 16 posts for teaching staff, but only six have
been filled while ten still are vacant. Similarly, there are 57
non-teaching posts, but more than half, i.e. 31 posts are vacant.
Among 16 approved teaching posts in Bilaspur, only half have been
filled while 25 posts are still vacant out of 57 non-teaching posts.
In Jagdalpur, only one quarter of the total 16 approved teaching posts
have been filled while 12 are still vacant. Similarly, out of 57
non-teaching posts, 27 are still vacant.
In Kawardha, fifty percent of the 16 approved teaching posts have been
filled while 24 out of 56 non-teaching posts are vacant.

Conditions of rain-hit areas better than past years: Mayor

Raipur, July 26

Mayor Kiranmayi Nayak has claimed that the conditions
of rain-hit areas of the capital were better than previous years.
“Earlier the low-lying areas would remain submerged after heavy and
incessant rains, but the scenario has completely changed this year and
water smoothly drains out from these places because of the municipal’s
intense sanitation drive before monsoon,” Nayak said while she was
reviewing the arrangements made by the civic administration during
rainy season like proper drainage in the city besides the role played
by disaster management cell in the aftermath of heavy showers.
Nayak said although the sanitation drive prior to rains brought
anticipated result in the low-lying areas, but the problem of
waterlogging in some places still loomed large because of
encroachments over nullahs and drains that are hampering regular
cleaning works. She asked the zone commissioners to remove all such
illegal occupants from their areas launching anti-encroachment drive.
She further asked the officials to make the phone numbers of central
disaster management cell as well as its zonal branches besides flood
relief cell at fire station. She instructed the officials to purchase
all the essential items required for rescue operations in flooded
areas to avoid any panic.
She asked the officials to provide 70 sanitation workers to the
disaster management cell and prepare their duty chart in three shifts
during the entire rainy season.

FLIP SIDE - Oracle octopus Paul

Yogesh Mishra

The psychic Octopus Paul, who is more popularly known as oracle
octopus, is on seventh heaven after his prediction once again proved
correct that Spain will win the Football World Cup final. This octopus
has knack of predicting outcome of the games. Presently, octopus Paul
is in Germany’s Oberhausen Sea Life aquarium. We want this octopus
desperately in India as it can do miracles through its prophecies. The
politicians will also agree on this because they too would know about
the crests and troughs of their career. If we can give several
opportunities to the politicians who always deceive us then why cannot
we trust on this octopus that is of course not selfish and would
foretell impartially. We can take help of octopus Paul in finding the
solution of various problems including naxalism, terrorism,
starvation, etc. We can also know when exactly the prices of essential
commodities would come down. Who knows, this octopus may become like
Nostradamus.

FLIP SIDE - Potatoes costlier than petrol

Yogesh Mishra

The cost of potatoes went gone past Rs 60 per kg this week due to
sudden increase in transportation fare that happened because of recent
fuel price hike. The petrol that cost almost Rs 53 per litre was Rs 7
less than one kg potato. The comparative rates of potatoes and petrol
confused the common man and he could not help thinking like a
businessman. He considered petrol a profitable deal than potato
because he knew that there was no other option for the fuel, but he
would at least find alternate additives for food for a time being.

FLIP SIDE - Overloaded school buses, autos

Yogesh Mishra

Finally, there is someone who cares for students. It is the state
Transport department that has decided to take action on school buses,
vans and auto rickshaws overloaded with students. The Additional
Transport Commissioner BS Maravi has directed the flying squads of all
the districts to keep an eye on these vehicles. This is a welcoming
move. The kids wake up early morning to pick the school bus, van or
auto. They utilise their travel time from home to school by either by
completing their sleep or swotting some chapters. At school, they
spend at least 6-7 hours. Hence, when they return, they again want to
relax. But they do not get anticipated comfort as the school buses and
vans fill students double the number of their seats while autowalas
pack the children thrice the capacity of their vehicles. Ironically,
parents pay hefty conveyance fee hoping that their kids would have
safe and comfortable journey. Now, if Transport department can realise
that the overloaded vehicles with students are more prone to road
mishaps and further inaction would cost innocent lives, why police
administration is sleeping? Why it does not take action against the
overloaded vehicles carrying students and seize them along with
driving license of the driver? Why it does not admonish school
managements to consider children as humans, not goods while pushing
them in the buses or vans? In addition, the police should also take
action against the children below 18 who have developed a cult of
racing their vehicles in the crowded areas. Why any of the police
campaign against norm violating vehicles does not last more than a
week or fortnight? Till how long the traffic cops will allow the
violators to disappear along with their vehicles merely by taking Rs
50 (earlier it was Rs 20)? Now, the responsibility does not end with
the police alone. The parents and school managements should also be
blamed. Why parents do no check whether their kids get seat everyday
or not? They should quickly inquire from the autowala or the school
management why their children had to face inconvenience during travel
when the pay the full fare or conveyance fee. Unfortunately, these
parents only awake when they read the headlines in the newspapers that
some school bus dashed a truck or a crowded auto with students turned
turtle. However, instead of taking lesson from such episodes, they
start blaming the police, district and civic administrations. Finally,
the school managements are completely indifferent towards the problem
of the students. They simply want money, no matter how much
inconvenience the students face in bus. So, after the Transport
department’s initiatives, will the police, parents and school
managements follow the suit?

FLIP SIDE - Water harvesting

Yogesh Mishra

Just a month back, the government and all the civic bodies were
appealing to the people to save water and to install water harvesting
system. In the capital, the RMC had given ultimatum to all the
residents, builders and government edifices to install water
harvesting system before June 30, 2010. The municipal also launched an
awareness campaign to inform the benefits of this acute water
conservation technique to the people. But unfortunately, only few
people showed interest. Why? Because, water consumption and wastage is
more in the large edifices, both government and private and people
think the water harvesting system should be first installed in these
buildings. Another reason is the high cost of installation. There are
only few experts in water harvesting system and they demand inordinate
fee and installation charges. The maintenance charge of water
harvesting system is also expensive. So, first the civic bodies
including the RMC should deal with the cost factor of the technique
and must take help of the government. If the installation process will
be economical and its maintenance would not dent people’s pocket then
everyone will readily agree on municipal’s terms and conditions.
Interesting suggestions have surfaced from slum and low-lying areas
that face water crisis during summer and flood-like situation during
rainy season. The residents of these places say that the installation
of water harvesting system in their localities would not only rid them
from the problem of water scarcity in summer and affluence in the
rainy season, but would also increase the groundwater table of the
surrounding areas. However, they say the installation cost should be
incurred by the government as they do not have enough money even for
their subsistence. The RMC must be thinking if it would keep on doing
charity works then how its exchequer would bulge.

नक्सल प्रभावित 65 थानों के सुदृढ़ीकरण के लिए 130 करोड़ रूपए स्वीकृत

मुख्यमंत्री रमन सिंह की मांग पर तीन हजार एस.पी.ओ. भर्ती के लिए भी मिली मंजूरी

रायपुर 14 जुलाई 2010

प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह की अध्यक्षता में आज नई दिल्ली में हुई
नक्सल प्रभावित राज्यों के मुख्यमंत्रियों की विशेष बैठक में छत्तीसगढ़ के
नक्सल प्रभावित विभिन्न जिलों के 65 पुलिस थानों के सुदृढ़ीकरण के लिए 130
करोड़ रूपए की राशि स्वीकृत की गई है। प्रत्येक थाने के लिए दो करोड़ रूपए
मंजूर किए गए। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने इन थानों के
सुदृढ़ीकरण के लिए तत्काल राशि स्वीकृत करने की मांग बैठक में की थी। इसके
साथ ही मुख्यमंत्री के विशेष आग्र्रह पर छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित
जिलों में तीन हजार विशेष पुलिस अधिकारियों (एस.पी.ओ.) की भर्ती की
मंजूरी भी बैठक में प्रदान कर दी गई ।
मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने बैठक में कहा कि छत्तीसगढ़ में 44 प्रतिशत वन
क्षेत्रों के अलावा आठ प्रतिशत ऐसी जमीन है, जिसे छोटे-बड़े झाड़ के जंगल
बताकर उसे वन भूमि में शामिल कर लिया गया है। जबकि वास्तव में इस भूमि पर
कोई जंगल नहीं है। इस भूमि पर आदिवासियों के लिए स्वास्थ्य केन्द्र, शाला
भवन और अन्य विकास कार्य कराने की अनुमति प्रदान की जानी चाहिए। उन्होंने
कहा कि केन्द्र जरूरी समझे तो केन्द्र और राज्य की संयुक्त निरीक्षण दल
बनाकर इस भूमि का परीक्षण कराया जा सकता है। मुख्यमंत्री ने छत्तीसगढ़ में
कार्यरत सार्वजनिक क्षेत्र की कम्पनियों द्वारा अर्जित किए जाने वाले
राजस्व में से दस प्रतिशत हिस्सा स्थानीय क्षेत्र के विकास के लिए खर्च
करने का प्रावधान किए जाने की मांग की। उन्होंने कहा कि ऐसा होने से
पिछड़े क्षेत्रों के समग्र विकास के लिए आवश्यक संसाधन जुटाए जा सकते हैं।
डॉ. सिंह ने छत्तीसगढ़ में वनोपज के व्यापार को नियमित करने के लिए सभी
प्रकार के वनोपजों का समर्थन मूल्य घोषित करने तथा समर्थन मूल्य पर उनकी
खरीदी करने की मांग की।
बैठक में छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित जिलों के समग्र विकास के लिए
राज्य सरकार द्वारा भेजी गई 4553 करोड़ रूपए की कार्ययोजना पर भी विचार
किया गया। मुख्यमंत्री ने इस कार्ययोजना को शीघ्र स्वीकृति प्रदान करने
की मांग की। ज्ञातव्य है कि राज्य शासन द्वारा केन्द्र को भेजी गई इस
प्रस्तावित कार्ययोजना में कुल तीन लाख 70 हजार 499 कार्य शामिल किए गए
हैं। इनमें सड़क सम्पर्क के लिए 1545.30 करोड़ रूपए, शैक्षणिक विकास और
स्कूल भवनों के निर्माण के लिए 544.30 करोड़ रूपए, स्वास्थ्य सुविधाओं के
विस्तार के लिए 336.16 करोड़ रूपए, खाद्य एवं पोषण कार्यों के लिए 289.64
करोड़ रूपए, अधोसंरचना विकास के लिए 735.86 करोड़ रूपए, विद्युतिकरण्ा के
लिए 167.32 करोड़ रूपए, कृषि एवं जीवकोपार्जन के कार्यों के लिए 873.21
करोड़ रूपए और सुरक्षा, राहत सहित अन्य विकास कार्यों के लिए 61.38 करोड़
रूपए का प्रस्ताव शामिल है।

FLIP SIDE - Capital traffic

Yogesh Mishra

The RMC and police administration recently decided to improve the capital’s traffic system by posing stern face towards the norm violating motorists. The RMC also constituted zonal teams for the purpose. Suddenly, the roads and intersections of the capital wore a new look and Raipurians found traffic cops seriously discharging their responsibility in every square, triangle and turning. People thought they would soon get rid of frequent traffic bottlenecks at the busy roads. But, Raipur’s motorists are much smarter than the RMC and the police administration had anticipated. While some motorists prefer paying fine on tariff violation instead of learning rules, the others adopt different routes to avoid facing cops. The motorists ridicule the responsible authorities for intermittently awakening from deep trance and attempting to convince people that they would not sleep again and soon improve the traffic woes. The motorists say the solution of capital traffic lies on seriousness of the concerned departments which usually vanish after briefly pursuing their task. The traffic police also look worried. In fact, strictness is not in their habit. They rather believe in ‘compromise’ that eventually ‘satisfy’ them as well as the motorists. Some cops find it difficult in simultaneously managing the flooding motorists at road intersections and making challans against the queuing norm violators.

FLIP SIDE - Politically incorrect

Yogesh Mishra

The BJP national president Nitin Gadkari is once again in controversy due to his non-calculated talks. This time, he has targeted Congress and has once again made politically incorrect remark raising the delay in hanging death row convict Afzal Guru. The other BJP leaders, especially national spokespersons startled as soon as they heard Gadkari’s comments because they knew how much exercise they would have to do now to save party’s image and give a sophisticated meaning to Gadkari’s comments. The BJP spokesperson Ravishankar Prasad says Gadkari’s comments reflect people’s sentiments and wrath against the UPA government. But BJP workers in Chhattisgarh ask why only Gadkari face criticism when worst remarks had been made by various leaders like Mayawati, Mulayam Singh Yadav, Lalu Prasad Yadav, M Karunanidhi, J Jayalalitha and several leaders from Southern India, Bal Thackrey, Raj Thackeray and even from Sonia Gandhi who had used unparliamentary words against Narendra Modi. They also questioned why Congress leaders were mum when Union Agriculture Minister Sharad Pawar had said that people would not die if they would consume less sugar when he was asked by the media pertaining to his failure in curbing rising sugar prices.

FLIP SIDE - Why Congress is sulking?

Yogesh Mishra

The state Congress is utterly flummoxed by the attitude of the party’s Union ministers because every time their Chhattisgarh visit summerises with appreciation of Chief Minister Raman Singh’s government. The Congress leaders are continuously demanding from the party’s national leadership to thwart the rising trend of glorifying opposition parties that are ruling in states. They said they would not be left with any issue in Chhattisgarh if the Union ministers would continue giving full marks to the BJP government in every department. Recently, Congress MLA Amitesh Shukla complained against Planning Commission Deputy Chairman Montek Singh Ahluwalia to the party supremo Sonia Gandhi. Shukla asked how come Ahluwalia applauded the Chhattisgarh governments for effectively implementing the PDS and did not instruct it to expedite payments under NREGS works. The other senior party leaders, too, have made similar complaints to the high command. Unimpressed by such complaints, Sonia has reportedly directed Amitesh and other senior party leaders to concentrate in consolidating the party in the state instead of sulking on petty issues.

FLIP SIDE - High income

Yogesh Mishra

There are a couple of officials in the RMC who are illustrious (or notorious?) because of their high income. The stories of these officials are being dramatically narrated in the municipal corridors. You simply ask anybody in the RMC about the actual income of these officials (or precisely corrupt staff) and your eyes will dilate when the monetary figures will resonate in your ears like a clang of distant bells. One such high-earning official has recently been rebuked by the mayor when she discovered that he had deliberately manipulated many of her decisions without her knowledge. The mayor later revealed that he had also manipulated the decisions of Mayor-in-Council (MiC) on the instructions of his bosses. But this official is stolid. He always focuses on his target and does not mind if he gets humiliated. He maintains a low profile and did not complain even when he got small dingy office room because he spends majority of his precious time in clinching ‘big deals’. Another official, who gathers money even with his eyebrows, has occupied the top post of one department for several years. He has developed expertise in extracting money from garbage. He was reaping abundant sum during the tenure of former mayor because he had developed excellent rapport with the decision-makers. Now, with the arrival of new mayor, he had to change many of his ‘strategies’ and ‘tie-ups’. Recently, he has also got show-cause notice from municipal commissioner. Anticipating the flow of air from opposite direction, he is planning to take transfer before being trapped in any major controversy followed by departmental enquiry.

Meeting of Business Advisory Committee held at VS

Raipur, July 26

A meeting of Business Advisory Committee held at state
Assembly’s conference room on Monday. The meeting was attended by
committee Chairman and Vidhan Sabha Speaker Dharam Lal Kaushik, Chief
Minister Raman Singh, Parliamentary Affairs Minister Brijmohan
Agrawal, Home Minister Nankiram Kanwar, Panchayat & Rural development
Minister Ramvichar Netam, Agriculture Minister Chandra Shekhar Sahu,
Leader of Opposition Ravindra Choubey, Congress MLAs Nand Kumar Patel,
Mohammad Akbar, Dharmjeet Singh, Dr. Haridas Bhardwaj, VS Secretary
Devendra Verma and senior government officials.

FLIP SIDE - Price rise, politics & dharna

Yogesh Mishra

The rising prices of essential commodities have given golden
opportunity to the opposite parties to hit the Congress-led UPA
government, expose its flawed policies and create its ‘bad boy’ image
before public. So, all the opposite parties including BJP joined hands
and staged nationwide dharna and demanded from the Centre either to
bring down prices or to step down. After the dharna of opposition was
over, the Congress decided to show the public a different angle of
bringing the prices down, especially fuel prices. In Chhattisgarh, the
state Congress staged dharna and informed people that the state
government, too, can curb inflation by merely reducing VAT (Value
Added Tax). The Congress said if the government would cut down VAT on
petroleum products from existing 25% to 14%, the petrol and diesel
would be cheaper by Rs 5 and Rs 3 respectively while the LPG cylinder
price would plunge by Rs 35. Suddenly, the ball is in BJP’s court and
Congress is smiling. But will the UPA further slash prices of
essential commodities including petroleum products if the state
governments including Chhattisgarh reduce VAT? The fact is, neither
the state governments nor the Centre will take any decision in
people’s favour. They simply want to deceive the citizens on pretext
of dharnas. Gandhiji, alas, this is not your period and now dharnas
are staged not for masses, but for classes (self). Is Congress still
smiling?

FLIP SIDE - Ego clash

Yogesh Mishra

A top civic official has gone on long leave due to his differences with the minister of relevant department. But do you know why this official has dared to lock horn with the minister? It is because the official does not want to please the minister by sycophancy, but by his performance that, according to him, always traverses the best mark. The minister does not like his attitude. He wants the official to condescend before him as others do. The minister has even threatened the official that his headstrong demeanour would land him someday on remote woodlands of the state. The official remains unmoved by such ‘transfer threats’. He says he was on deputation in the municipal corporation and he would not mind if the minister would send him back to his parent department. At work, this official has gained popularity due to his dedication towards given tasks. He has also earned distinction in formulating solutions of urban issues and the municipal is completely dependent on him on some of its centrally-sponsored projects. Hence, one fine day, when the minister reiterated the same archaic sentence, the official smiled derisively and went on long leave in search of mental peace.

Speech of CM Raman Singh, Government of Chhattisgarh at 55th National Development Council meet

New Dehli 24th July 2010

Hon’ble Prime Minister, Hon’ble Deputy Chairman Planning Commission,
Hon’ble Union Ministers, Hon’ble Chief Ministers, Hon’ble Members of
the Council and friends,

On the occasion of Mid-Term Appraisal of XIth Five Year Plan, I convey
greetings of the people of Chhattisgarh to everybody present in this
meeting. All the issues on which the Council would deliberate today
are very important and timely. I am confident that decisions taken by
the Council on these issues would accelerate the pace of overall
development of our country as well as the states.

2. Sir, Chhattisgarh State came into being primarily due to
regional inequalities and imbalanced growth. After the formation of
the State, our economy has grown rapidly. This is evident from the
Mid-Term Appraisal report of the XIth Plan by the Planning Commission
as well.

3. I am very happy to inform that our State has been able to
achieve GSDP growth of 11.71% in 2007-08, 6.81% in 2008-09 and 11.49%
in 2009-10 as against the target of 9.57% for the XIth plan. Our
plan size has increased from Rs. 7,413 crore in 2007-08 to Rs. 13,093
crore in 2010-11.

4. I am also very happy to mention that due to financial
discipline and better fiscal management, key fiscal indicators of our
State are comparable with the best managed states.

5. Before expressing my views on the main agenda items of
today’s meeting, I would like to draw the attention of Hon’ble Prime
Minister towards the following very important issues which have
direct bearing on the financial and fiscal position of the State:-

(i) It often happens that after the start of Centrally
Sponsored Schemes, state share is gradually increased by the Central
Government. Due to their limited resources, implementation of such
Centrally Sponsored Schemes becomes difficult for the states. Our
request is that after introduction of Centrally Sponsored Schemes,
state share should not be enhanced.

(ii) The country is undergoing reforms in indirect
taxation regime. Value Added Tax was introduced in place of Sales Tax
and now discussions are underway for introduction of Goods and Service
Tax in its place, which would certainly benefit the trade and
commerce. However, it is my considered view that GST should be
implemented only after considering its impact on all the stake-holders
especially the small dealers and the common man and ensuring that
states’ economy and its fiscal autonomy are not affected adversely.

6. Sir, I would now go on to the issues on which the Council has
to deliberate today.

STRATEGY FOR AGRICULTURE DEVELOPMENT

7. Almost 80% of our population derives their livelihood from
agriculture and allied activities. Out of 35.5 lac families which are
dependent on agriculture, 54% are small and marginal farmers. Paddy
being the main crop of our State, Chhattisgarh is traditionally known
as “rice bowl” of the country. During the XIth Five Year Plan, growth
in agriculture sector was 5.17%, while it has been 3.03% during the
first 3 years of the XIth Five Year Plan. There is, therefore, a need
to give momentum to agriculture growth in the state and I would
request the Government of India, to consider the following:-

(i) At present National Food Security Mission (rice) covers only
10 out of 18 districts. It is requested that the remaining 8
districts be also brought under NFSM (rice).

(ii) North Hill Districts of Korea, Jashpur and Ambikapur which
have favourable climate for production of wheat should be covered
under National Food Security Mission (wheat).

(iii) Rice being the main crop of the State, our long pending demand
of setting up of a Rice Research Centre by the ICAR should be acceded
to without further delay.

(iv) Tribals constitute almost 32 % of our population and their
agronomical practices are different from those prevailing
traditionally. Therefore, Indian Council of Agriculture Research
(ICAR) should set up a Special
Research Centre in this area to improve their agriculture productivity.

(v) A National Biotic Stress Management Institute be set up in Chhattisgarh.

(vi) Government of India has made provision of Rs. 400 crore for
bringing green revolution in eastern states. Keeping in view the
objective and need of this scheme, substantial upward revision in this
amount is requested.

DEVELOPMENT OF WATER RESOURCES

8. At the time of formation of the state, irrigation percentage
was about 23% which increased to 30% by the beginning of XIth Five
Year Plan. It is estimated to increase to 32.25% by 2012.

9. State Government has continuously increased budgetary
provisions for development of water resources and irrigation
facilities. Central assistance received under Accelerated Irrigation
Benefit Programme (AIBP) has proved to be quite useful. However,
keeping in view the ground realities of our State, the following
amendments in this scheme are suggested:-

(i) Due to more than 50% area under forest coverage, our
irrigation projects get delayed due to the time taken in obtaining FCA
clearance. Therefore, the existing time limit of 2 years for
completion of minor irrigation projects and 4 years for medium
irrigation projects should be increased to 3 and 5 years,
respectively.

(ii) The norm of Rs. 1.5 lac per hectare for minor irrigation
schemes, which was fixed in 2006 needs to be increased at least to
Rs. 2.5 lac per hectare.

(iii) Central assistance for non-tribal areas should also be 90% is
applicable to tribal areas.

(iv) There is tremendous scope for irrigation through construction
of Anicuts on many rivers and rivulets in Chhattisgarh. However,
Anicuts do not qualify for assistance under AIBP, which should be
permitted for assistance under AIBP.

ELECTRICITY GENERATION, AVAILABILITY OF COAL AND MANAGING ENVIRONMENT:

10. A major part of electricity requirement of the country could
be fulfilled by our State because of huge reserves of coal and
available water resources.

11. For the XIth Five Year Plan, target of 1750 MW in the State
Sector, 3980 MW in the Central Sector and 2570 MW in the Private
Sector have been set. The work of two major projects in the State
Sector of which substantial progress had been made towards
implementation and for which Coal Blocks in Hasdeo Arand Coal Fields
were allotted in 2003 and 2004, is held up because FCA clearance has
not been given by the Union Ministry of Environment and Forests.
Similarly, Central Government’s 4000 MW Sarguja Ultra Mega Power
Project is also awaiting FCA clearance for coal mining. Thus, progress
of power projects with 6600 MW generating capacity in Chhattisgarh is
hampered due to delays in FCA clearance. I would like to only request
the Hon’ble Prime Minister that FCA clearance should be immediately
given for the Projects which have already made substantial progress
and new FCA norms should be applied only to the new projects.

12. Sir, states which provide land, water and other resources to
generate electricity for other states should be suitably compensated.
This would encourage the states with huge coal resources to establish
pit-head power plants for supply of power to the power deficit states.
We have been requesting since long that law should be amended so that
cess or duty could be imposed on generation of electricity, so that
power exporting states could be compensated.

13. As regards the issue of environment management arising due to
coal-based thermal power generation, I would only like to say that we
can provide cheap electricity only from coal based power plants. Any
other source would be expensive for the economy as well as the common
man. Therefore, environmental concerns should be addressed through the
use of advanced technologies and energy efficient machines.

URBANIZATION:

14. Present policies and programmes of urban development primarily
concentrate on metropolitan cities and large towns. These are unable
to handle the requirements of urban development in Chhattisgarh and
other backward states which do not have metropolitan cities but the
number of medium and small towns is increasing at a fast pace.

15. I would like to suggest that apart from Metropolitan cities
and big towns, Government of India should also give priority to
development of medium and small towns of backward states. This would
not only help in balanced regional growth, but also arrest the pace of
migration to cities.

16. I would also like to mention that because of resource
constraints of Central as well as State Governments, problem of
housing of urban poor is increasing rapidly. This problem can be
handled only when private capital is attracted in this sector.
Therefore, there is a need to formulate a well thought out policy
which attracts the investors for construction of houses for
economically weaker sections as well.

TRIBAL DEVELOPMENT

17. 60% geographical area of Chhattisgarh State is Schedule V Area
and its 50% area is forest area. Around 32% population of the State is
Scheduled Tribes and the State Government attaches highest priority to
their development and welfare.

18. I would like to mention some of the initiatives taken for
tribal development in Chhattisgarh State: -

(1) 32% allocation of the plan budget is set apart for Tribal Sub-Plan.

(2) Two Regional Tribal Development Authorities have been
constituted for the tribal predominant southern and northern regions
of the State. Through these Authorities, sanctions and requisite money
are made available in the meetings of these Authorities itself for the
essential infrastructure works and urgent needs of the tribal areas.
So far, an amount of over Rs. 420 crore has been sanctioned and
disbursed through these Authorities.

(3) Rights over forest land have been granted to around 2 lac 15
thousand tribal families, more than any other State in the country.

(4) With a view to expand educational facilities in the Scheduled
Areas, particularly in the field of technical and employment oriented
education, a number of initiatives have been taken during the last 3
years. Some of these are:-

(i) Establishment of Jagdalpur University in the Bastar Region
and Sarguja University for the tribal northern region.

(ii) Establishment of medical college in Jagdalpur town of Bastar region.

(iii) Establishment of 21 new colleges, 6 new polytechnics and 9 new ITIs.

(iv) Establishment of over 800 new ashram schools and hostels

(5) 3-tier minor forest produce corporatives carry collection and
marketing activities for Tendu Leaves, Saalseed, Harra and Gond for
ensuring the “best marketing price” to the collectors of these MFPs.

(6) Insurance scheme and other welfare schemes have been started
for the welfare of collectors of MFPs

19. For giving momentum to the developmental efforts in the tribal
areas, we need special assistance from the Central Government in some
areas, which are as follows: -

(1) There is shortage of money for construction of hostels, ashram
school buildings and residential accommodation for teachers in the
tribal areas. The requirement of seven LWE affected districts in this
regard may be met from the funds to be made available under the LWE
integrated action plan. I request that one time grant may be made
available for this purpose for other tribal areas also.

(2) Over 2 lac 15 thousand tribal families, to whom rights have
been granted over forest land, are not getting development loans from
financial institutions. The real purpose of grant of rights over
forest land shall be fully met only if the beneficiaries are able to
get loans for land
development and minor irrigation. NABARD need to prepare a scheme in
this regard.

(3) Central Government needs to put in place a Minimum Support
Price Scheme for minor forest produce also on the lines of MSP scheme
for agricultural crops.

LEFT WING EXTREMISM

20. Sir, main problem being faced by the Chhattisgarh State is
Left Wing Extremism. From the year 2004-05 onwards, serious efforts
have been made in the State to fight this menace. During this period,
police budget has been raised from Rs. 268 crore per annum to Rs. 1020
crore per annum, police force has been increased from 22,250 to 50,000
and Special Intelligence Bureau and Commando Units have been set up.
One Counter Terrorism & Jungle Warfare Training College and three CIAT
schools have been set up, in which thousands of police personnel from
other states and central police organizations have also been trained.

21. I would like to thank the Central Government for
taking the initiative for providing special assistance through an
Integrated Action Plan for the development of LWE affected areas. We
have submitted a scheme amounting to Rs. 4553 crore for the seven
widely effect LWE districts of the State to the Planning Commission. I
hope that its formal sanction will be accorded soon. In addition to
the seven widely affected LWE districts, 6 other districts are also
affected partly by Left Wing Extremism. Special assistance in the form
of an Integrated Development Plan should be made available for the
development of these other affected areas also.

22. For containing the Left Wing Extremism, we need to increase
the pace of creation of infrastructure and development of these areas
along with strengthening the security environment in the affected
districts. The main problem being faced for improving road
connectivity and other essential infrastructure in Bastar region is
the non availability of construction
agencies. In this connection, I suggest that Government of India may
consider establishment of a suitable construction agency for
undertaking construction of three national highways, running through
Bastar region, as cement concrete roads and for other essential
construction works. In addition to this, number of units of Border
Roads Organization working in this area should also be increased.

23. To strengthen the security environment in the effected areas,
we need to increase the strength of state police force, for which
establishment of additional police training institutes and additional
police housing are necessary. Special central assistance should be
made available for this purpose also.

24. Now, I would like to draw kind attention of Hon’ble Prime
Minister to two issues that are talked about as causes of Left Wing
Extremism. These are - Mining Policy and Law, and implementation of
“PESA” in regard to Minor Forest Produce.

MINING POLICY AND LAW

25. First of all, I would like to acquaint this august House about
the factual position in regard to the malicious propaganda that one of
the causes of Left Wing Extremism in the State of Chhattisgarh is the
mining activities undertaken by private and multinational companies.
The real position in this regard is that over 86% coal and over 98%
iron ore in the State is being undertaken by the Central PSUs like
SECL, NMDC and SAIL.

26. For quite some time, people of the mineral bearing areas have
been demanding at various forums that a policy for ensuring setting
apart a substantial part of the mining profits for undertaking
developmental activities in the backward mineral bearing areas be put
in place. However, position in this regard
continues to be unsatisfactory. The Central Government PSUs SECL, NMDC
and SAIL, who are engaged in the mining of coal and iron ore for
several decades, spend only small amounts of their profits toward
local development, which needs to be corrected urgently. The Supreme
Court, in one of its landmark judgments known as “Samatha Judgment”
has laid down the guiding principle in this regard saying that the
companies working in the Scheduled Areas should set apart at least 20%
of their profits for local infrastructure building and other
developmental and welfare activities. The amounts being spent for this
purpose presently are even less than 3%, which need to be immediately
raised to 10% and finally upto 20% to 25%, in stages.

27. Another issue in regard to mining pertains to the provisions
of the new mining Bill settled by the Union Ministry of Mines. The
scheme of section 22 of this Bill is based on the infallible principle
“direct license to the first in the line”, whereas it is
necessary and desirable to follow “direct license to the applicant who
offers maximum value addition or revenue sharing” principle. The Hoda
Committee, set up by the Planning Commission on National Mineral
Policy had also recommended that in the case of multiple applicants
for direct licenses, value adders should be preferred over non-value
adders, which has been wholly ignored. Another omission in the said
mining Bill is that it contains no provisions at all for the Scheduled
Areas, which ought to be incorporated. All the major mineral bearing
areas in the country are in the naxal affected tribal areas and the
backward states, and enactment of the said Bill in its present form
would be against the interest of the tribal dominated mineral bearing
areas and the Scheduled Tribes themselves. Therefore, suitable
modifications, in the light of points raised and suggestions given by
me just now, should be made in the Bill before its approval by the
Central Government, otherwise it’s implementation may face
difficulties.

APPLICATION OF PESA TO MFPS:

28. Sir, non-implementation of provisions of PESA in regard to
minor forest produce in the Scheduled Areas is being talked about as
one of the causes of LW Extremism. In so far as Chhattisgarh is
concerned, this issue is being raised not by the MFP collectors, or by
the forest committees of the locals, or by the elected Panchayat or by
the elected representatives from the tribal areas, but by outsiders.

29. Sir, this is an important matter and in this connection, it is
necessary to first know about the present system in vogue in
Chhattisgarh State. We are ensuring to the collectors Tendu Leaves,
Saalseed, Harra, etc. the best possible value of the MFPs collected by
them through a three-tier cooperative structure that handles
collection, storage and marketing of MFPs. All matters pertaining to
the MFP collection and
disbursement of the basic price, bonus, etc. are undertaken by the
elected cooperatives of the MFP collectors themselves, which is
meeting the basic purpose of PESA. District level Unions and State
level Federation attend to the storage and marketing matters for
ensuring the best market price to MFP collectors.

30. It is our considered view that if the present structure is
dismantled without putting in place an implementable and better
alternative scheme, collectors of MFPs will be encountered with
immense difficulty in marketing of MFPs and they may have to suffer
loss of income. We are of the view that various models for collection,
storage and marketing of MFPs in vogue in different states should be
studied and, thereafter, a model which ensures the maximum gain to the
MFP collectors should be selected for implementation. This may be
followed by such changes in the presently applicable laws, as are
necessary to implement the selected model. The last but an extremely
important point that I want to make in this regard is that any change
in the present arrangements should be brought about only after the
Central Government puts in place a suitable scheme of “Minimum Support
Price” and procurement of MFPs by TRIFED or other agency/ agencies.

31. In the end, I thank the Hon’ble Prime Minister and all the
Hon’ble Members of the Council and Friends present and hope that the
Central Government and the Planning Commission would give favourable
consideration to the issues raised by me. I am fully confident that
the decisions that will be taken in the light of today’s deliberations
would lead to acceleration of the development process in the country and in the States.

लोकतंत्र की रक्षा के लिए नक्सलियों से आर-पार की लड़ाई अनिवार्य:रमन सिंह

हथियार छोड़े बिना उनसे बातचीत निरर्थक
प्रधानमंत्री की बैठक में मुख्यमंत्री ने नक्सल क्षेत्रों के नये जिलों के लिए मांगा विशेष पैकेज

Jul 14, 2010

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने एक बार फिर कहा है कि लोकतंत्र
की रक्षा के लिए नक्सलियों से आर-पार की लड़ाई अनिवार्य हो गयी है। डॉ.
रमन सिंह ने कहा कि जब तक नक्सलवादी बन्दूक छोड़ कर भारतीय संविधान पर
आस्था नहीं जताते और लोकतांत्रिक तौर-तरीकों को नहीं अपनाते, तब तक उनसे
बातचीत निरर्थक ही रहेगी। डॉ. रमन सिंह ने आज नई दिल्ली में प्रधानमंत्री
डाॅ. मनमोहन सिंह की अध्यक्षता में आयोजित देश के नक्सल प्रभावित
राज्यों के मुख्यमंत्रियों की विशेष बैठक में यह भी दोहराया कि नक्सलवाद
और आतंकवाद एक ही सिक्के के दो पहलू है। डॉ. रमन सिंह ने बैठक में राज्य
के नक्सल प्रभावित क्षेत्रों के दो नये जिलों बीजापुर और नारायणपुर तथा
तीन नये पुलिस जिलों - बलरामपुर, सूरजपुर और गरियाबंद के लिए प्रत्येक
जिले के हिसाब से दो सौ करोड़ रूपए के विशेष पैकेज की भी मांग रखी।

उतर चुका है नक्सलियों का मुखौटा

मुख्यमंत्री ने कहा कि नक्सलवादियों, उनके सहयोगियों और हमदर्दों की
कथनी और करनी को जनता के समाने लाने का जो सिलसिला छत्तीसगढ़ में छह साल
पहले शुरू हुआ था, उसके कारण अब नक्सलियों का मुखौटा पूरी तरह उतर चुका
है। उनकी हिंसक गतिविधियों से यह स्पष्ट हो गया है कि माओवादियों द्वारा
आम आदमी के हित में बातें करना एक छलावा है। हकीकत यह है कि उनके द्वारा
आम आदमी ही मारा जा रहा है। विकास की हर इकाई को ध्वस्त किया जा रहा है।
इसलिए हमने नक्सलियों सख्ती से निपटने की नीति बनायी है। हमने सरकार में
आते ही यह मन बना लिया था कि उनसे आर-पार की लड़ाई लड़नी होगी। देश को,
उसके संवैधानिक ढांचे को, लोकतंत्र को और लोकतांत्रिक मूल्यों को बचाने
के लिए यह अनिवार्य है। डाॅ. रमन सिंह ने यह भी कहा कि अब देश को इस
दुविधा से उबरना होगा कि यह किसी राज्य विशेष अंदरूनी मामला है।
प्रधानमंत्री ने भी इसे देश की आतंरिक सुरक्षा के लिए सबसे बड़ा खतरा
बताया है और हमने भी इससे निबटने के लिए राष्ट्रीय स्तर पर समन्वित
रणनीति की जरूरत बतायी है।

नक्सल हमदर्दों के दुष्प्रचार का जोरदार खण्डन

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री की बैठक में अपनी बात रखते
हुए नक्सलियों और उनके हमदर्द कुछ बुद्धिजीवियों के इस दुष्प्रचार का
जोरदार शब्दों में खण्डन किया कि बस्तर में बहुराष्ट्रीय कम्पनियों और
निजी उद्योगपतियों को मूल्यवान खनिजों से भरी जमीनें दी जाती है। डॉ. रमन
सिंह ने बैठक में कहा कि वस्तु स्थिति यह है कि पिछले 50 साल में कोई भी
बहुराष्ट्रीय कम्पनी एक किलो लौह अयस्क भी नहीं ले गयी है। लगभग 40 हजार
वर्ग किलोमीटर क्षेत्रफल वाले बस्तर अंचल में सिर्फ एक प्रतिशत जमीन
खनिजों के उत्खनन और प्राॅसपेक्टिंग के लिए दी गयी है, वह भी सिर्फ
राष्ट्रीय खनिज विकास निगम, भारतीय इस्पात प्राधिकरण और छत्तीसगढ़ खनिज
विकास निगम जैसे सार्वजनिक उपक्रमों को। डॉ. रमन सिंह ने कहा कि वास्तव
में यह दुःख का विषय है कि नक्सलियों की हिंसक और अराजक पृष्ठभूमि के
बावजूद आज भी कुछ लोग उनकी मंशा को लेकर भ्रम की स्थिति में है।
प्रजातंत्र में आस्था रखने वाले कुछ ऐसे लोगों और संगठनों की व्यक्तिगत
राय में भी नक्सलियों के प्रति सहानुभूति का भाव समय-समय पर उजागर होता
रहता है। कई बार तो मुझे लगता है कि कुछ प्रभावशाली प्रबुद्ध लोग
जाने-अनजाने, राजनीतिक परिपक्वता के अभाव में भी नक्सलियों के हमदर्द बन
जाते हैं और दूरगामी परिणामों को नजरअंदाज कर उनके हाथों की कठपुतली बन
जाते हैं और उनके दुष्प्रचारों से प्रभावित हो जाते हैं।
पूरे देश को एकजुट होने की जरूरत
मुख्यमंत्री ने कहा कि नक्सल समस्या से निबटने के लिए छत्तीसगढ़ के
साथ पूरे देश को बहुआयामी और बहुस्तरीय प्रयासों के लिए एकजुट होने की
जरूरत है। यह एक बहुत बड़ी चुनौती और जिम्मेदारी हम सबके सामने है।
मुख्यमंत्री ने नक्सल समस्या के बारे में छत्तीसगढ़ सरकार के नजरिए को
स्पष्ट करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ एक नया राज्य है, जिसके संसाधनों की
अपनी सीमा है। एक ओर नक्सलियों ने अपनी सारी ताकत छत्तीसगढ़ में झोंक रखी
है, वहीं दूसरी ओर हमारा नया राज्य नक्सलवाद के खिलाफ आज सबसे बड़ी लड़ाई
लड रहा है। हम यह भली-भांति जानते हैं कि नक्सलियों से लड़ने के अलावा
हमारे पास कोई विकल्प नहीं है। डॉ. रमन सिंह ने प्रधानमंत्री से कहा कि
जहां तक छत्तीसगढ़ का सवाल है, तो मैं यह स्पष्ट करना चाहता हूँ कि हम
नक्सल समस्या के निदान के लिए हर पहलू पर ध्यान दे रहे हैं। पिछड़े
क्षेत्रों में अधोसंरचना विकास, बुनियादी सुविधाओं की पहुंच और
सामाजिक-आर्थिक समाधानों के लिए हमने अनेक कदम उठाए हैं, जिसके बारे में
हमने लगभग हर मंच-हर अवसर पर आपको को अवगत कराया है। मैं यह बताना चाहता
हूं कि हमारे प्रयासों का असर वनांचलों की जनता के विश्वास के रूप में
सामने आया है।
सड़क निर्माण का लक्ष्य पूर्ण होने तक बी.आर.ओ. की सेवाएं जरूरी
छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री ने बैठक में यह भी कहा कि राज्य के नक्सल
प्रभावित इलाकों में विकास और निर्माण कार्यों के लिए विषम परिस्थितियों
में भी काम करने में सक्षम सीमा सड़क संगठन (बी.आर.ओ.) की जरूरत हमें अभी
भी है। हम चाहेंगे कि जब तक इस क्षेत्र में सड़क निर्माण का लक्ष्य पूरा
नहीं हो जाता, तब तक बी.आर.ओ. की सेवाएं हमें मिलती रहे। डॉ. रमन सिंह ने
कहा कि राज्य सरकार ने नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में सुरक्षा और विकास की
समन्वित रणनीति बनायी है। उन्होंने प्रधानमंत्री को बताया कि राज्य में
अनुसूचित जाति और जनजाति वर्ग की जनसंख्या लगभग 44 प्रतिशत है, लेकिन
छत्तीसगढ़ सरकार अपने वार्षिक बजट का करीब 45 प्रतिशत हिस्सा इन वर्गों के
विकास के लिए खर्च कर रही है। इसके अलावा आदिवासी उप योजना क्षेत्रांें
में स्थानीय जनता की मांगों और जरूरतों को पूरा करने के लिए दो विशेष
प्राधिकरणों का गठन कर उनके माध्यम से बजट के बाहर भी लगभग छह सौ करोड़
रूपए के निर्माण कार्य कराए जा चुके हैं। बस्तर डेव्हलपमेंट ग्रुप का गठन
किया गया है, ताकि नक्सली प्रभावित अंचलों की जरूरतों को पूरा करने और
विकास कार्य कराने के लिए फैसले संबंधित जिलों में ही ले लिए जाएं और
इनसे संबंधित नस्तियों को राजधानी रायपुर तक भेजने की जरूरत न पड़े।
नये जिलों के लिए विशेष पैकेज जरूरी: डॉ. रमन सिंह

डॉ. रमन सिंह ने कहा कि राज्य के नक्सल प्रभावित इलाकों में अधोसंरचना
विकास के कार्यों में तेजी आयी है, प्रशासन को आम जनता के और भी ज्यादा
नजदीक लाने के लिए दो नए राजस्व जिलों नारायणपुर और बीजापुर का गठन किया
गया है, वहीं तीन नए पुलिस जिले- बलरामपुर, सूरजपुर और गरियाबंद भी गठित
किए गए हैं। मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री डाॅ. मनमोहन सिंह से इन जिलों
में समुचित बुनियादी संरचनाओं के विकास के लिए प्रत्येक जिले को दो सौ
करोड़ रूपए का विशेष पैकेज स्वीकृत करने का अनुरोध किया। मुख्यमंत्री ने
प्रधानमंत्री को इस बात के लिए धन्यवाद भी दिया कि उनके सहयोग से
छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित क्षेत्रों के समग्र विकास के लिए 4553 करोड़
रूपए की कार्य योजना स्वीकृत की जा रही है।
नक्सल क्षेत्रों में केन्द्रीय बलों के लिए भी जम्मू-कश्मीर की तरह विशेष

भत्ते की मांग

मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री को यह भी बताया कि छत्तीसगढ़ में
केन्द्रीय पुलिस बलों के अधिकारियों और कर्मचारियों को अत्यंत विपरीत
परिस्थितियों में काम करना पड़ रहा है। इसलिए मेरा यह अनुरोध है कि इन्हें
उन्हीं दरों पर भत्ते और अन्य सुविधाएं दी जानी चाहिए, जिस दर पर जम्मू
और कश्मीर में दी जा रही है। डॉ. रमन सिंह ने प्रधानमंत्री से कहा कि
नक्सल हिंसा में शहीद हुए आम नागरिकों और शासकीय कर्मचारियों के लिए भी
दस लाख रूपए के मान से अनुग्रह राशि केन्द्र सरकार द्वारा दी जानी चाहिए।
इसके अलावा नक्सल हिंसा में शहीद होने वाले शासकीय कर्मचारियों के
परिजनों को केन्द्रीय सेवाओं और संगठनों में नियुक्ति के लिए आरक्षण का
प्रावधान भी किया जाना चाहिए। शहीदों के परिजनों और नक्सल प्रभावित जनता
को स्नातक स्तर तक निःशुल्क शिक्षा और स्वास्थ्य जैसी तमाम बुनियादी
सुविधाएं देने के विशेष प्रयास किए जाने चाहिए। छत्तीसगढ़ में हम अपने
स्तर पर सुविधाएं जुटाने का हर संभव प्रयास कर रहे हैं।
विशेष बैठक के लिए प्रधानमंत्री को दिया धन्यवाद

डॉ. रमन सिंह ने प्रारंभ में इस विशेष बैठक के आयोजन के लिए
प्रधानमंत्री और केन्द्रीय गृह मंत्री को इस बात के लिए धन्यवाद दिया कि
उन्होंने माओवादियों, नक्सलवादी तत्वों की मंशा के बारे में छत्तीसगढ़ के
साथ देश के अन्य नक्सलवाद प्रभावित राज्यों के दृष्टिकोण को सही
परिपे्रक्ष्य में लिया है। डाॅ. रमन सिंह ने प्रधानमंत्री से कहा कि इस
मुद्दे पर आपने निरंतर संवाद की प्रक्रिया शुरू की है और उसी के
परिणामस्वरूप आज हमें पुनः इस विषय पर अपना नजरिया सामने रखने का अवसर
मिला है।

नक्सल सोच की जड़ें तानाशाही स्वरूप में

डॉ. रमन सिंह ने कहा कि मेरी यह स्पष्ट धारणा है कि नक्सलवाद और आतंकवाद
एक ही सिक्के के दो पहलू हैं। हम निर्माण करते जाएं और नक्सलवादी विध्वंस
करते रहंे, तो सारा विकास कार्य बेमानी हो जाता है। सरकार जो सुविधाएं
दूरस्थ गांव वालों के लिए जुटाए, उस पर नक्सली डाका डालते रहें तो हमारे
प्रयासों का लाभ नक्सल प्रभावित गांवों के निवासियों को मिलना मुश्किल हो
जाता है। हम यह जानते हैं कि माओवादी या नक्सलवादी सोच की जड़ें माओवाद के
तानाशाही स्वरूप में है जिसे वह एक क्रूरतम हिंसात्मक युद्ध और आतंक के
बल पर हासिल करना चाहते हैं। माओवादियों द्वारा आम आदमी के हित में बातें
करना तो बस एक छलावा है, हकीकत यह है कि माओवादियों द्वारा आम आदमी ही
मारा जा रहा है, उनके द्वारा विकास की हर इकाई को ध्वस्त किया जा रहा है।
इसलिए हमने नक्सलवादियों से सख्ती से निबटने की नीति अपनाई। हमने सरकार
में आते ही यह मन बना लिया था कि नक्सलियों से, माओवादियों से आर-पार की
लड़ाई लड़नी पड़ेगी क्योंकि यह लड़ाई न सिर्फ छत्तीसगढ़ को नक्सली आतंक से
मुक्त करने के लिये अनिवार्य है बल्कि इस देश को, उसके संवैधानिक ढांचे
को, प्रजातांत्रिक सोच व प्रजातांत्रिक मूल्यों को बचाने के लिये भी
अनिवार्य है। अब देश को इस दुविधा से उबरना होगा कि यह किसी राज्य विशेष
का अंदरूनी मामला है। यही वजह है कि आपने भी इस नक्सलवादी समस्या को देश
की आंतरिक सुरक्षा के लिए सबसे बड़ा खतरा बताया है और हमने भी इससे निबटने
के लिए राष्ट्रीय स्तर पर समन्वित रणनीति की आवश्यकता प्रतिपादित की है।
सहयोग और संसाधनों को बढ़ाने की जरूरत

डॉ. रमन सिंह ने यह भी कहा कि हम राज्य के संसाधनों और केन्द्र सरकार के
सहयोग से जितने भी प्रयास कर रहे हैं, उन्हें समस्या की भीषणता के अनुरूप
बढ़ाना होगा। यह बात स्पष्ट करने के लिए मैं बताना चाहूंगा कि नक्सली
ताकतों में अब कितना इजाफा हो चुका है। हमारी जानकारी के अनुसार बस्तर
में नक्सलियों की दण्डकारण्य स्पेशल जोनल कमेटी में कुल 7 डिवीजन, 32
एरिया कमेटी हैं, जिसके तहत करीब 50,000 नक्सली एवं जनमिलिशिया,
प्रजातंत्र के खिलाफ युद्ध छेड़े हुए हैं। देश की 40 प्रतिशत से ज्यादा
मुठभेड़ बस्तर में हुई है। नक्सली बस्तर को आधार क्षेत्र बनाना चाह रहे
हैं। वहाँ पर नक्सलियों की बटालियन बन चुकी है और अब वे अपने ब्रिग्रेड
भी बनाने की तैयारी में है। दूसरी ओर सुरक्षा व्यवस्था को मजबूत करने के
लिए हमने पुलिस का बजट 268 करोड़ से बढ़ाकर 1019 करोड़ रूपये कर दिया। पिछले
छह सालों में पुलिस बल 22000 से बढ़ाकर 49000 कर दिया है। छत्तीसगढ़ सरकार
हर साल तीन-चार हजार लोगों की भर्ती पुलिस बलों में कर रही है। विगत वर्ष
6700 लोगों की भर्ती की गई थी और इस वर्ष फिर 4000 जवानों की भर्ती की जा
रही है। इसके अलावा हमने सुरक्षाबलों को प्रशिक्षित, कुशल और सक्षम बनाने
के लिए कांकेर में जंगल वारफेयर काॅलेज खोला। एस.टी.एफ. जैसे सक्षम बल का
गठन किया, एन्टी-टेररिस्ट फोर्स का गठन किया, तीन सीएट (काउन्टर
टेरेरिज्म एवं एन्टी टेररिस्ट) स्कूल हम केन्द्र सरकार के सहयोग से एक
माह के अंदर खोलने जा रहे हैं। इसमें कोई शक नहीं कि समय-समय पर केन्द्र
सरकार से मिलने वाली मदद से हमें काफी सहारा मिलता है। लेकिन अभी हमें
लम्बी लड़ाई लड़नी है, इसके लिए हमें काफी संसाधनों की आवश्यकता होगी।
हमारा अनुमान है कि नक्सलियों के विरूद्ध लड़ाई में कम से कम 10 बटालियनों
की तत्काल जरूरत है।

पिछले वर्ष मारे गए 119 नक्सली

डॉ. रमन सिंह ने कहा कि नक्सलियों के खिलाफ चल रही कार्यवाही और उसकी
प्रतिक्रिया के तौर पर हालांकि छत्तीसगढ़ में कुछ बड़ी घटनाएं हुई हैं
लेकिन यह भी बताना चाहूँगा कि छत्तीसगढ़ में वर्ष 2009 में 119 नक्सली
मारे गए हैं, यह संख्या देश में सर्वाधिक है। साथ ही पकड़े और मारे गये
नक्सलियों की संख्या में काफी बढ़ोत्तरी हुई है। यह सब केन्द्रीय एवं
राज्य सुरक्षा बलों के अथक परिश्रम एवं बलिदान से ही संभव हुआ है। इस
लड़ाई को हमें राजनीतिक सामंजस्य और सामाजिक सहयोग के साथ लड़ना होगा। कुछ
मानव अधिकारवादियों, छद्म प्रबुद्ध वर्ग के प्रोपोगेण्डा का सहारा
नक्सलियों द्वारा लिया जा रहा है। इस मोर्चे पर भी कारगर जवाबी कार्यवाही
करते हुए हमें जनता को सच्चाई बताना होगा। हमारा दृढ़ विश्वास है कि आम
जनता के विश्वास और समर्थन से यह लड़ाई निश्चित तौर पर जीती जाएगी।

मधुशाला

I really like this beautiful creativity
by Harivansh Rai Bachchan


मृदु भावों के अंगूरों की आज बना लाया हाला,
प्रियतम, अपने ही हाथों से आज पिलाऊँगा प्याला,
पहले भोग लगा लूँ तेरा फिर प्रसाद जग पाएगा,
सबसे पहले तेरा स्वागत करती मेरी मधुशाला।।१।

प्यास तुझे तो, विश्व तपाकर पूर्ण निकालूँगा हाला,
एक पाँव से साकी बनकर नाचूँगा लेकर प्याला,
जीवन की मधुता तो तेरे ऊपर कब का वार चुका,
आज निछावर कर दूँगा मैं तुझ पर जग की मधुशाला।।२।

प्रियतम, तू मेरी हाला है, मैं तेरा प्यासा प्याला,
अपने को मुझमें भरकर तू बनता है पीनेवाला,
मैं तुझको छक छलका करता, मस्त मुझे पी तू होता,
एक दूसरे की हम दोनों आज परस्पर मधुशाला।।३।

भावुकता अंगूर लता से खींच कल्पना की हाला,
कवि साकी बनकर आया है भरकर कविता का प्याला,
कभी न कण-भर खाली होगा लाख पिएँ, दो लाख पिएँ!
पाठकगण हैं पीनेवाले, पुस्तक मेरी मधुशाला।।४।

मधुर भावनाओं की सुमधुर नित्य बनाता हूँ हाला,
भरता हूँ इस मधु से अपने अंतर का प्यासा प्याला,
उठा कल्पना के हाथों से स्वयं उसे पी जाता हूँ,
अपने ही में हूँ मैं साकी, पीनेवाला, मधुशाला।।५।

मदिरालय जाने को घर से चलता है पीनेवला,
'किस पथ से जाऊँ?' असमंजस में है वह भोलाभाला,
अलग-अलग पथ बतलाते सब पर मैं यह बतलाता हूँ -
'राह पकड़ तू एक चला चल, पा जाएगा मधुशाला।'। ६।

चलने ही चलने में कितना जीवन, हाय, बिता डाला!
'दूर अभी है', पर, कहता है हर पथ बतलानेवाला,
हिम्मत है न बढूँ आगे को साहस है न फिरुँ पीछे,
किंकर्तव्यविमूढ़ मुझे कर दूर खड़ी है मधुशाला।।७।

मुख से तू अविरत कहता जा मधु, मदिरा, मादक हाला,
हाथों में अनुभव करता जा एक ललित कल्पित प्याला,
ध्यान किए जा मन में सुमधुर सुखकर, सुंदर साकी का,
और बढ़ा चल, पथिक, न तुझको दूर लगेगी मधुशाला।।८।

मदिरा पीने की अभिलाषा ही बन जाए जब हाला,
अधरों की आतुरता में ही जब आभासित हो प्याला,
बने ध्यान ही करते-करते जब साकी साकार, सखे,
रहे न हाला, प्याला, साकी, तुझे मिलेगी मधुशाला।।९।

सुन, कलकल़ , छलछल़ मधुघट से गिरती प्यालों में हाला,
सुन, रूनझुन रूनझुन चल वितरण करती मधु साकीबाला,
बस आ पहुंचे, दुर नहीं कुछ, चार कदम अब चलना है,
चहक रहे, सुन, पीनेवाले, महक रही, ले, मधुशाला।।१०।

जलतरंग बजता, जब चुंबन करता प्याले को प्याला,
वीणा झंकृत होती, चलती जब रूनझुन साकीबाला,
डाँट डपट मधुविक्रेता की ध्वनित पखावज करती है,
मधुरव से मधु की मादकता और बढ़ाती मधुशाला।।११।

मेंहदी रंजित मृदुल हथेली पर माणिक मधु का प्याला,
अंगूरी अवगुंठन डाले स्वर्ण वर्ण साकीबाला,
पाग बैंजनी, जामा नीला डाट डटे पीनेवाले,
इन्द्रधनुष से होड़ लगाती आज रंगीली मधुशाला।।१२।

हाथों में आने से पहले नाज़ दिखाएगा प्याला,
अधरों पर आने से पहले अदा दिखाएगी हाला,
बहुतेरे इनकार करेगा साकी आने से पहले,
पथिक, न घबरा जाना, पहले मान करेगी मधुशाला।।१३।

लाल सुरा की धार लपट सी कह न इसे देना ज्वाला,
फेनिल मदिरा है, मत इसको कह देना उर का छाला,
दर्द नशा है इस मदिरा का विगत स्मृतियाँ साकी हैं,
पीड़ा में आनंद जिसे हो, आए मेरी मधुशाला।।१४।

जगती की शीतल हाला सी पथिक, नहीं मेरी हाला,
जगती के ठंडे प्याले सा पथिक, नहीं मेरा प्याला,
ज्वाल सुरा जलते प्याले में दग्ध हृदय की कविता है,
जलने से भयभीत न जो हो, आए मेरी मधुशाला।।१५।

बहती हाला देखी, देखो लपट उठाती अब हाला,
देखो प्याला अब छूते ही होंठ जला देनेवाला,
'होंठ नहीं, सब देह दहे, पर पीने को दो बूंद मिले'
ऐसे मधु के दीवानों को आज बुलाती मधुशाला।।१६।

धर्मग्रन्थ सब जला चुकी है, जिसके अंतर की ज्वाला,
मंदिर, मसजिद, गिरिजे, सब को तोड़ चुका जो मतवाला,
पंडित, मोमिन, पादिरयों के फंदों को जो काट चुका,
कर सकती है आज उसी का स्वागत मेरी मधुशाला।।१७।

लालायित अधरों से जिसने, हाय, नहीं चूमी हाला,
हर्ष-विकंपित कर से जिसने, हा, न छुआ मधु का प्याला,
हाथ पकड़ लज्जित साकी को पास नहीं जिसने खींचा,
व्यर्थ सुखा डाली जीवन की उसने मधुमय मधुशाला।।१८।

बने पुजारी प्रेमी साकी, गंगाजल पावन हाला,
रहे फेरता अविरत गति से मधु के प्यालों की माला'
'और लिये जा, और पीये जा', इसी मंत्र का जाप करे'
मैं शिव की प्रतिमा बन बैठूं, मंदिर हो यह मधुशाला।।१९।

बजी न मंदिर में घड़ियाली, चढ़ी न प्रतिमा पर माला,
बैठा अपने भवन मुअज्ज़िन देकर मस्जिद में ताला,
लुटे ख़जाने नरपितयों के गिरीं गढ़ों की दीवारें,
रहें मुबारक पीनेवाले, खुली रहे यह मधुशाला।।२०।

बड़े बड़े पिरवार मिटें यों, एक न हो रोनेवाला,
हो जाएँ सुनसान महल वे, जहाँ थिरकतीं सुरबाला,
राज्य उलट जाएँ, भूपों की भाग्य सुलक्ष्मी सो जाए,
जमे रहेंगे पीनेवाले, जगा करेगी मधुशाला।।२१।

सब मिट जाएँ, बना रहेगा सुन्दर साकी, यम काला,
सूखें सब रस, बने रहेंगे, किन्तु, हलाहल औ' हाला,
धूमधाम औ' चहल पहल के स्थान सभी सुनसान बनें,
झगा करेगा अविरत मरघट, जगा करेगी मधुशाला।।२२।

भुरा सदा कहलायेगा जग में बाँका, मदचंचल प्याला,
छैल छबीला, रसिया साकी, अलबेला पीनेवाला,
पटे कहाँ से, मधु औ' जग की जोड़ी ठीक नहीं,
जग जर्जर प्रतिदन, प्रतिक्षण, पर नित्य नवेली मधुशाला।।२३।

बिना पिये जो मधुशाला को बुरा कहे, वह मतवाला,
पी लेने पर तो उसके मुह पर पड़ जाएगा ताला,
दास द्रोहियों दोनों में है जीत सुरा की, प्याले की,
विश्वविजयिनी बनकर जग में आई मेरी मधुशाला।।२४।

हरा भरा रहता मदिरालय, जग पर पड़ जाए पाला,
वहाँ मुहर्रम का तम छाए, यहाँ होलिका की ज्वाला,
स्वर्ग लोक से सीधी उतरी वसुधा पर, दुख क्या जाने,
पढ़े मर्सिया दुनिया सारी, ईद मनाती मधुशाला।।२५।

एक बरस में, एक बार ही जगती होली की ज्वाला,
एक बार ही लगती बाज़ी, जलती दीपों की माला,
दुनियावालों, किन्तु, किसी दिन आ मदिरालय में देखो,
दिन को होली, रात दिवाली, रोज़ मनाती मधुशाला।।२६।

नहीं जानता कौन, मनुज आया बनकर पीनेवाला,
कौन अपिरिचत उस साकी से, जिसने दूध पिला पाला,
जीवन पाकर मानव पीकर मस्त रहे, इस कारण ही,
जग में आकर सबसे पहले पाई उसने मधुशाला।।२७।

बनी रहें अंगूर लताएँ जिनसे मिलती है हाला,
बनी रहे वह मिटटी जिससे बनता है मधु का प्याला,
बनी रहे वह मदिर पिपासा तृप्त न जो होना जाने,
बनें रहें ये पीने वाले, बनी रहे यह मधुशाला।।२८।

सकुशल समझो मुझको, सकुशल रहती यदि साकीबाला,
मंगल और अमंगल समझे मस्ती में क्या मतवाला,
मित्रों, मेरी क्षेम न पूछो आकर, पर मधुशाला की,
कहा करो 'जय राम' न मिलकर, कहा करो 'जय मधुशाला'।।२९।

सूर्य बने मधु का विक्रेता, सिंधु बने घट, जल, हाला,
बादल बन-बन आए साकी, भूमि बने मधु का प्याला,
झड़ी लगाकर बरसे मदिरा रिमझिम, रिमझिम, रिमझिम कर,
बेलि, विटप, तृण बन मैं पीऊँ, वर्षा ऋतु हो मधुशाला।।३०।

तारक मणियों से सज्जित नभ बन जाए मधु का प्याला,
सीधा करके भर दी जाए उसमें सागरजल हाला,
मज्ञल्तऌा समीरण साकी बनकर अधरों पर छलका जाए,
फैले हों जो सागर तट से विश्व बने यह मधुशाला।।३१।

अधरों पर हो कोई भी रस जिहवा पर लगती हाला,
भाजन हो कोई हाथों में लगता रक्खा है प्याला,
हर सूरत साकी की सूरत में परिवर्तित हो जाती,
आँखों के आगे हो कुछ भी, आँखों में है मधुशाला।।३२।

पौधे आज बने हैं साकी ले ले फूलों का प्याला,
भरी हुई है जिसके अंदर पिरमल-मधु-सुरिभत हाला,
माँग माँगकर भ्रमरों के दल रस की मदिरा पीते हैं,
झूम झपक मद-झंपित होते, उपवन क्या है मधुशाला!।३३।

प्रति रसाल तरू साकी सा है, प्रति मंजरिका है प्याला,
छलक रही है जिसके बाहर मादक सौरभ की हाला,
छक जिसको मतवाली कोयल कूक रही डाली डाली
हर मधुऋतु में अमराई में जग उठती है मधुशाला।।३४।

मंद झकोरों के प्यालों में मधुऋतु सौरभ की हाला
भर भरकर है अनिल पिलाता बनकर मधु-मद-मतवाला,
हरे हरे नव पल्लव, तरूगण, नूतन डालें, वल्लरियाँ,
छक छक, झुक झुक झूम रही हैं, मधुबन में है मधुशाला।।३५।

साकी बन आती है प्रातः जब अरुणा ऊषा बाला,
तारक-मणि-मंडित चादर दे मोल धरा लेती हाला,
अगणित कर-किरणों से जिसको पी, खग पागल हो गाते,
प्रति प्रभात में पूर्ण प्रकृति में मुखिरत होती मधुशाला।।३६।

उतर नशा जब उसका जाता, आती है संध्या बाला,
बड़ी पुरानी, बड़ी नशीली नित्य ढला जाती हाला,
जीवन के संताप शोक सब इसको पीकर मिट जाते
सुरा-सुप्त होते मद-लोभी जागृत रहती मधुशाला।।३७।

अंधकार है मधुविक्रेता, सुन्दर साकी शशिबाला
किरण किरण में जो छलकाती जाम जुम्हाई का हाला,
पीकर जिसको चेतनता खो लेने लगते हैं झपकी
तारकदल से पीनेवाले, रात नहीं है, मधुशाला।।३८।

किसी ओर मैं आँखें फेरूँ, दिखलाई देती हाला
किसी ओर मैं आँखें फेरूँ, दिखलाई देता प्याला,
किसी ओर मैं देखूं, मुझको दिखलाई देता साकी
किसी ओर देखूं, दिखलाई पड़ती मुझको मधुशाला।।३९।

साकी बन मुरली आई साथ लिए कर में प्याला,
जिनमें वह छलकाती लाई अधर-सुधा-रस की हाला,
योगिराज कर संगत उसकी नटवर नागर कहलाए,
देखो कैसों-कैसों को है नाच नचाती मधुशाला।।४०।

वादक बन मधु का विक्रेता लाया सुर-सुमधुर-हाला,
रागिनियाँ बन साकी आई भरकर तारों का प्याला,
विक्रेता के संकेतों पर दौड़ लयों, आलापों में,
पान कराती श्रोतागण को, झंकृत वीणा मधुशाला।।४१।

चित्रकार बन साकी आता लेकर तूली का प्याला,
जिसमें भरकर पान कराता वह बहु रस-रंगी हाला,
मन के चित्र जिसे पी-पीकर रंग-बिरंगे हो जाते,
चित्रपटी पर नाच रही है एक मनोहर मधुशाला।।४२।

घन श्यामल अंगूर लता से खिंच खिंच यह आती हाला,
अरूण-कमल-कोमल कलियों की प्याली, फूलों का प्याला,
लोल हिलोरें साकी बन बन माणिक मधु से भर जातीं,
हंस मज्ञल्तऌा होते पी पीकर मानसरोवर मधुशाला।।४३।

हिम श्रेणी अंगूर लता-सी फैली, हिम जल है हाला,
चंचल नदियाँ साकी बनकर, भरकर लहरों का प्याला,
कोमल कूर-करों में अपने छलकाती निशिदिन चलतीं,
पीकर खेत खड़े लहराते, भारत पावन मधुशाला।।४४।

धीर सुतों के हृदय रक्त की आज बना रक्तिम हाला,
वीर सुतों के वर शीशों का हाथों में लेकर प्याला,
अति उदार दानी साकी है आज बनी भारतमाता,
स्वतंत्रता है तृषित कालिका बलिवेदी है मधुशाला।।४५।

दुतकारा मस्जिद ने मुझको कहकर है पीनेवाला,
ठुकराया ठाकुरद्वारे ने देख हथेली पर प्याला,
कहाँ ठिकाना मिलता जग में भला अभागे काफिर को?
शरणस्थल बनकर न मुझे यदि अपना लेती मधुशाला।।४६।

पथिक बना मैं घूम रहा हूँ, सभी जगह मिलती हाला,
सभी जगह मिल जाता साकी, सभी जगह मिलता प्याला,
मुझे ठहरने का, हे मित्रों, कष्ट नहीं कुछ भी होता,
मिले न मंदिर, मिले न मस्जिद, मिल जाती है मधुशाला।।४७।

सजें न मस्जिद और नमाज़ी कहता है अल्लाताला,
सजधजकर, पर, साकी आता, बन ठनकर, पीनेवाला,
शेख, कहाँ तुलना हो सकती मस्जिद की मदिरालय से
चिर विधवा है मस्जिद तेरी, सदा सुहागिन मधुशाला।।४८।

बजी नफ़ीरी और नमाज़ी भूल गया अल्लाताला,
गाज गिरी, पर ध्यान सुरा में मग्न रहा पीनेवाला,
शेख, बुरा मत मानो इसको, साफ़ कहूँ तो मस्जिद को
अभी युगों तक सिखलाएगी ध्यान लगाना मधुशाला!।४९।

मुसलमान औ' हिन्दू है दो, एक, मगर, उनका प्याला,
एक, मगर, उनका मदिरालय, एक, मगर, उनकी हाला,
दोनों रहते एक न जब तक मस्जिद मन्दिर में जाते,
बैर बढ़ाते मस्जिद मन्दिर मेल कराती मधुशाला!।५०।

कोई भी हो शेख नमाज़ी या पंडित जपता माला,
बैर भाव चाहे जितना हो मदिरा से रखनेवाला,
एक बार बस मधुशाला के आगे से होकर निकले,
देखूँ कैसे थाम न लेती दामन उसका मधुशाला!।५१।

और रसों में स्वाद तभी तक, दूर जभी तक है हाला,
इतरा लें सब पात्र न जब तक, आगे आता है प्याला,
कर लें पूजा शेख, पुजारी तब तक मस्जिद मन्दिर में
घूँघट का पट खोल न जब तक झाँक रही है मधुशाला।।५२।

आज करे परहेज़ जगत, पर, कल पीनी होगी हाला,
आज करे इन्कार जगत पर कल पीना होगा प्याला,
होने दो पैदा मद का महमूद जगत में कोई, फिर
जहाँ अभी हैं मन्िदर मस्जिद वहाँ बनेगी मधुशाला।।५३।

यज्ञ अग्नि सी धधक रही है मधु की भटठी की ज्वाला,
ऋषि सा ध्यान लगा बैठा है हर मदिरा पीने वाला,
मुनि कन्याओं सी मधुघट ले फिरतीं साकीबालाएँ,
किसी तपोवन से क्या कम है मेरी पावन मधुशाला।।५४।

सोम सुरा पुरखे पीते थे, हम कहते उसको हाला,
द्रोणकलश जिसको कहते थे, आज वही मधुघट आला,
वेदिवहित यह रस्म न छोड़ो वेदों के ठेकेदारों,
युग युग से है पुजती आई नई नहीं है मधुशाला।।५५।

वही वारूणी जो थी सागर मथकर निकली अब हाला,
रंभा की संतान जगत में कहलाती 'साकीबाला',
देव अदेव जिसे ले आए, संत महंत मिटा देंगे!
किसमें कितना दम खम, इसको खूब समझती मधुशाला।।५६।

कभी न सुन पड़ता, 'इसने, हा, छू दी मेरी हाला',
कभी न कोई कहता, 'उसने जूठा कर डाला प्याला',
सभी जाति के लोग यहाँ पर साथ बैठकर पीते हैं,
सौ सुधारकों का करती है काम अकेले मधुशाला।।५७।

श्रम, संकट, संताप, सभी तुम भूला करते पी हाला,
सबक बड़ा तुम सीख चुके यदि सीखा रहना मतवाला,
व्यर्थ बने जाते हो हिरजन, तुम तो मधुजन ही अच्छे,
ठुकराते हिर मंिदरवाले, पलक बिछाती मधुशाला।।५८।

एक तरह से सबका स्वागत करती है साकीबाला,
अज्ञ विज्ञ में है क्या अंतर हो जाने पर मतवाला,
रंक राव में भेद हुआ है कभी नहीं मदिरालय में,
साम्यवाद की प्रथम प्रचारक है यह मेरी मधुशाला।।५९।

बार बार मैंने आगे बढ़ आज नहीं माँगी हाला,
समझ न लेना इससे मुझको साधारण पीने वाला,
हो तो लेने दो ऐ साकी दूर प्रथम संकोचों को,
मेरे ही स्वर से फिर सारी गूँज उठेगी मधुशाला।।६०।

कल? कल पर विश्वास किया कब करता है पीनेवाला
हो सकते कल कर जड़ जिनसे फिर फिर आज उठा प्याला,
आज हाथ में था, वह खोया, कल का कौन भरोसा है,
कल की हो न मुझे मधुशाला काल कुटिल की मधुशाला।।६१।

आज मिला अवसर, तब फिर क्यों मैं न छकूँ जी-भर हाला
आज मिला मौका, तब फिर क्यों ढाल न लूँ जी-भर प्याला,
छेड़छाड़ अपने साकी से आज न क्यों जी-भर कर लूँ,
एक बार ही तो मिलनी है जीवन की यह मधुशाला।।६२।

आज सजीव बना लो, प्रेयसी, अपने अधरों का प्याला,
भर लो, भर लो, भर लो इसमें, यौवन मधुरस की हाला,
और लगा मेरे होठों से भूल हटाना तुम जाओ,
अथक बनू मैं पीनेवाला, खुले प्रणय की मधुशाला।।६३।

सुमुखी तुम्हारा, सुन्दर मुख ही, मुझको कन्चन का प्याला
छलक रही है जिसमंे माणिक रूप मधुर मादक हाला,
मैं ही साकी बनता, मैं ही पीने वाला बनता हूँ
जहाँ कहीं मिल बैठे हम तुम़ वहीं गयी हो मधुशाला।।६४।

दो दिन ही मधु मुझे पिलाकर ऊब उठी साकीबाला,
भरकर अब खिसका देती है वह मेरे आगे प्याला,
नाज़, अदा, अंदाजों से अब, हाय पिलाना दूर हुआ,
अब तो कर देती है केवल फ़र्ज़ -अदाई मधुशाला।।६५।

छोटे-से जीवन में कितना प्यार करुँ, पी लूँ हाला,
आने के ही साथ जगत में कहलाया 'जानेवाला',
स्वागत के ही साथ विदा की होती देखी तैयारी,
बंद लगी होने खुलते ही मेरी जीवन-मधुशाला।।६६।

क्या पीना, निर्द्वन्द न जब तक ढाला प्यालों पर प्याला,
क्या जीना, निरंिचत न जब तक साथ रहे साकीबाला,
खोने का भय, हाय, लगा है पाने के सुख के पीछे,
मिलने का आनंद न देती मिलकर के भी मधुशाला।।६७।

मुझे पिलाने को लाए हो इतनी थोड़ी-सी हाला!
मुझे दिखाने को लाए हो एक यही छिछला प्याला!
इतनी पी जीने से अच्छा सागर की ले प्यास मरुँ,
सिंधँु-तृषा दी किसने रचकर बिंदु-बराबर मधुशाला।।६८।

क्या कहता है, रह न गई अब तेरे भाजन में हाला,
क्या कहता है, अब न चलेगी मादक प्यालों की माला,
थोड़ी पीकर प्यास बढ़ी तो शेष नहीं कुछ पीने को,
प्यास बुझाने को बुलवाकर प्यास बढ़ाती मधुशाला।।६९।

लिखी भाग्य में जितनी बस उतनी ही पाएगा हाला,
लिखा भाग्य में जैसा बस वैसा ही पाएगा प्याला,
लाख पटक तू हाथ पाँव, पर इससे कब कुछ होने का,
लिखी भाग्य में जो तेरे बस वही मिलेगी मधुशाला।।७०।

कर ले, कर ले कंजूसी तू मुझको देने में हाला,
दे ले, दे ले तू मुझको बस यह टूटा फूटा प्याला,
मैं तो सब्र इसी पर करता, तू पीछे पछताएगी,
जब न रहूँगा मैं, तब मेरी याद करेगी मधुशाला।।७१।

ध्यान मान का, अपमानों का छोड़ दिया जब पी हाला,
गौरव भूला, आया कर में जब से मिट्टी का प्याला,
साकी की अंदाज़ भरी झिड़की में क्या अपमान धरा,
दुनिया भर की ठोकर खाकर पाई मैंने मधुशाला।।७२।

क्षीण, क्षुद्र, क्षणभंगुर, दुर्बल मानव मिटटी का प्याला,
भरी हुई है जिसके अंदर कटु-मधु जीवन की हाला,
मृत्यु बनी है निर्दय साकी अपने शत-शत कर फैला,
काल प्रबल है पीनेवाला, संसृति है यह मधुशाला।।७३।

प्याले सा गढ़ हमें किसी ने भर दी जीवन की हाला,
नशा न भाया, ढाला हमने ले लेकर मधु का प्याला,
जब जीवन का दर्द उभरता उसे दबाते प्याले से,
जगती के पहले साकी से जूझ रही है मधुशाला।।७४।

अपने अंगूरों से तन में हमने भर ली है हाला,
क्या कहते हो, शेख, नरक में हमें तपाएगी ज्वाला,
तब तो मदिरा खूब खिंचेगी और पिएगा भी कोई,
हमें नमक की ज्वाला में भी दीख पड़ेगी मधुशाला।।७५।

यम आएगा लेने जब, तब खूब चलूँगा पी हाला,
पीड़ा, संकट, कष्ट नरक के क्या समझेगा मतवाला,
क्रूर, कठोर, कुटिल, कुविचारी, अन्यायी यमराजों के
डंडों की जब मार पड़ेगी, आड़ करेगी मधुशाला।।७६।

यदि इन अधरों से दो बातें प्रेम भरी करती हाला,
यदि इन खाली हाथों का जी पल भर बहलाता प्याला,
हानि बता, जग, तेरी क्या है, व्यर्थ मुझे बदनाम न कर,
मेरे टूटे दिल का है बस एक खिलौना मधुशाला।।७७।

याद न आए दूखमय जीवन इससे पी लेता हाला,
जग चिंताओं से रहने को मुक्त, उठा लेता प्याला,
शौक, साध के और स्वाद के हेतु पिया जग करता है,
पर मै वह रोगी हूँ जिसकी एक दवा है मधुशाला।।७८।

गिरती जाती है दिन प्रतिदन प्रणयनी प्राणों की हाला
भग्न हुआ जाता दिन प्रतिदन सुभगे मेरा तन प्याला,
रूठ रहा है मुझसे रूपसी, दिन दिन यौवन का साकी
सूख रही है दिन दिन सुन्दरी, मेरी जीवन मधुशाला।।७९।

यम आयेगा साकी बनकर साथ लिए काली हाला,
पी न होश में फिर आएगा सुरा-विसुध यह मतवाला,
यह अंितम बेहोशी, अंतिम साकी, अंतिम प्याला है,
पथिक, प्यार से पीना इसको फिर न मिलेगी मधुशाला।८०।

ढलक रही है तन के घट से, संगिनी जब जीवन हाला
पत्र गरल का ले जब अंतिम साकी है आनेवाला,
हाथ स्पर्श भूले प्याले का, स्वाद सुरा जीव्हा भूले
कानो में तुम कहती रहना, मधु का प्याला मधुशाला।।८१।

मेरे अधरों पर हो अंितम वस्तु न तुलसीदल प्याला
मेरी जीव्हा पर हो अंतिम वस्तु न गंगाजल हाला,
मेरे शव के पीछे चलने वालों याद इसे रखना
राम नाम है सत्य न कहना, कहना सच्ची मधुशाला।।८२।

मेरे शव पर वह रोये, हो जिसके आंसू में हाला
आह भरे वो, जो हो सुरिभत मदिरा पी कर मतवाला,
दे मुझको वो कान्धा जिनके पग मद डगमग होते हों
और जलूं उस ठौर जहां पर कभी रही हो मधुशाला।।८३।

और चिता पर जाये उंढेला पत्र न घ्रित का, पर प्याला
कंठ बंधे अंगूर लता में मध्य न जल हो, पर हाला,
प्राण प्रिये यदि श्राध करो तुम मेरा तो ऐसे करना
पीने वालांे को बुलवा कऱ खुलवा देना मधुशाला।।८४।

नाम अगर कोई पूछे तो, कहना बस पीनेवाला
काम ढालना, और ढालना सबको मदिरा का प्याला,
जाति प्रिये, पूछे यदि कोई कह देना दीवानों की
धर्म बताना प्यालों की ले माला जपना मधुशाला।।८५।

ज्ञात हुआ यम आने को है ले अपनी काली हाला,
पंिडत अपनी पोथी भूला, साधू भूल गया माला,
और पुजारी भूला पूजा, ज्ञान सभी ज्ञानी भूला,
किन्तु न भूला मरकर के भी पीनेवाला मधुशाला।।८६।

यम ले चलता है मुझको तो, चलने दे लेकर हाला,
चलने दे साकी को मेरे साथ लिए कर में प्याला,
स्वर्ग, नरक या जहाँ कहीं भी तेरा जी हो लेकर चल,
ठौर सभी हैं एक तरह के साथ रहे यदि मधुशाला।।८७।

पाप अगर पीना, समदोषी तो तीनों - साकी बाला,
नित्य पिलानेवाला प्याला, पी जानेवाली हाला,
साथ इन्हें भी ले चल मेरे न्याय यही बतलाता है,
कैद जहाँ मैं हूँ, की जाए कैद वहीं पर मधुशाला।।८८।

शांत सकी हो अब तक, साकी, पीकर किस उर की ज्वाला,
'और, और' की रटन लगाता जाता हर पीनेवाला,
कितनी इच्छाएँ हर जानेवाला छोड़ यहाँ जाता!
कितने अरमानों की बनकर कब्र खड़ी है मधुशाला।।८९।

जो हाला मैं चाह रहा था, वह न मिली मुझको हाला,
जो प्याला मैं माँग रहा था, वह न मिला मुझको प्याला,
जिस साकी के पीछे मैं था दीवाना, न मिला साकी,
जिसके पीछे था मैं पागल, हा न मिली वह मधुशाला!।९०।

देख रहा हूँ अपने आगे कब से माणिक-सी हाला,
देख रहा हूँ अपने आगे कब से कंचन का प्याला,
'बस अब पाया!'- कह-कह कब से दौड़ रहा इसके पीछे,
किंतु रही है दूर क्षितिज-सी मुझसे मेरी मधुशाला।।९१।

कभी निराशा का तम घिरता, छिप जाता मधु का प्याला,
छिप जाती मदिरा की आभा, छिप जाती साकीबाला,
कभी उजाला आशा करके प्याला फिर चमका जाती,
आँखिमचौली खेल रही है मुझसे मेरी मधुशाला।।९२।

'आ आगे' कहकर कर पीछे कर लेती साकीबाला,
होंठ लगाने को कहकर हर बार हटा लेती प्याला,
नहीं मुझे मालूम कहाँ तक यह मुझको ले जाएगी,
बढ़ा बढ़ाकर मुझको आगे, पीछे हटती मधुशाला।।९३।

हाथों में आने-आने में, हाय, फिसल जाता प्याला,
अधरों पर आने-आने में हाय, ढुलक जाती हाला,
दुनियावालो, आकर मेरी किस्मत की ख़ूबी देखो,
रह-रह जाती है बस मुझको मिलते-िमलते मधुशाला।।९४।

प्राप्य नही है तो, हो जाती लुप्त नहीं फिर क्यों हाला,
प्राप्य नही है तो, हो जाता लुप्त नहीं फिर क्यों प्याला,
दूर न इतनी हिम्मत हारुँ, पास न इतनी पा जाऊँ,
व्यर्थ मुझे दौड़ाती मरु में मृगजल बनकर मधुशाला।।९५।

मिले न, पर, ललचा ललचा क्यों आकुल करती है हाला,
मिले न, पर, तरसा तरसाकर क्यों तड़पाता है प्याला,
हाय, नियति की विषम लेखनी मस्तक पर यह खोद गई
'दूर रहेगी मधु की धारा, पास रहेगी मधुशाला!'।९६।

मदिरालय में कब से बैठा, पी न सका अब तक हाला,
यत्न सहित भरता हूँ, कोई किंतु उलट देता प्याला,
मानव-बल के आगे निर्बल भाग्य, सुना विद्यालय में,
'भाग्य प्रबल, मानव निर्बल' का पाठ पढ़ाती मधुशाला।।९७।

किस्मत में था खाली खप्पर, खोज रहा था मैं प्याला,
ढूँढ़ रहा था मैं मृगनयनी, किस्मत में थी मृगछाला,
किसने अपना भाग्य समझने में मुझसा धोखा खाया,
किस्मत में था अवघट मरघट, ढूँढ़ रहा था मधुशाला।।९८।

उस प्याले से प्यार मुझे जो दूर हथेली से प्याला,
उस हाला से चाव मुझे जो दूर अधर से है हाला,
प्यार नहीं पा जाने में है, पाने के अरमानों में!
पा जाता तब, हाय, न इतनी प्यारी लगती मधुशाला।।९९।

साकी के पास है तिनक सी श्री, सुख, संपित की हाला,
सब जग है पीने को आतुर ले ले किस्मत का प्याला,
रेल ठेल कुछ आगे बढ़ते, बहुतेरे दबकर मरते,
जीवन का संघर्ष नहीं है, भीड़ भरी है मधुशाला।।१००।

साकी, जब है पास तुम्हारे इतनी थोड़ी सी हाला,
क्यों पीने की अभिलषा से, करते सबको मतवाला,
हम पिस पिसकर मरते हैं, तुम छिप छिपकर मुसकाते हो,
हाय, हमारी पीड़ा से है क्रीड़ा करती मधुशाला।।१०१।

साकी, मर खपकर यदि कोई आगे कर पाया प्याला,
पी पाया केवल दो बूंदों से न अधिक तेरी हाला,
जीवन भर का, हाय, पिरश्रम लूट लिया दो बूंदों ने,
भोले मानव को ठगने के हेतु बनी है मधुशाला।।१०२।

जिसने मुझको प्यासा रक्खा बनी रहे वह भी हाला,
जिसने जीवन भर दौड़ाया बना रहे वह भी प्याला,
मतवालों की जिहवा से हैं कभी निकलते शाप नहीं,
दुखी बनाय जिसने मुझको सुखी रहे वह मधुशाला!।१०३।

नहीं चाहता, आगे बढ़कर छीनूँ औरों की हाला,
नहीं चाहता, धक्के देकर, छीनूँ औरों का प्याला,
साकी, मेरी ओर न देखो मुझको तिनक मलाल नहीं,
इतना ही क्या कम आँखों से देख रहा हूँ मधुशाला।।१०४।

मद, मदिरा, मधु, हाला सुन-सुन कर ही जब हूँ मतवाला,
क्या गति होगी अधरों के जब नीचे आएगा प्याला,
साकी, मेरे पास न आना मैं पागल हो जाऊँगा,
प्यासा ही मैं मस्त, मुबारक हो तुमको ही मधुशाला।।१०५।

क्या मुझको आवश्यकता है साकी से माँगूँ हाला,
क्या मुझको आवश्यकता है साकी से चाहूँ प्याला,
पीकर मदिरा मस्त हुआ तो प्यार किया क्या मदिरा से!
मैं तो पागल हो उठता हूँ सुन लेता यदि मधुशाला।।१०६।

देने को जो मुझे कहा था दे न सकी मुझको हाला,
देने को जो मुझे कहा था दे न सका मुझको प्याला,
समझ मनुज की दुर्बलता मैं कहा नहीं कुछ भी करता,
किन्तु स्वयं ही देख मुझे अब शरमा जाती मधुशाला।।१०७।

एक समय संतुष्ट बहुत था पा मैं थोड़ी-सी हाला,
भोला-सा था मेरा साकी, छोटा-सा मेरा प्याला,
छोटे-से इस जग की मेरे स्वर्ग बलाएँ लेता था,
विस्तृत जग में, हाय, गई खो मेरी नन्ही मधुशाला!।१०८।

बहुतेरे मदिरालय देखे, बहुतेरी देखी हाला,
भाँित भाँित का आया मेरे हाथों में मधु का प्याला,
एक एक से बढ़कर, सुन्दर साकी ने सत्कार किया,
जँची न आँखों में, पर, कोई पहली जैसी मधुशाला।।१०९।

एक समय छलका करती थी मेरे अधरों पर हाला,
एक समय झूमा करता था मेरे हाथों पर प्याला,
एक समय पीनेवाले, साकी आलिंगन करते थे,
आज बनी हूँ निर्जन मरघट, एक समय थी मधुशाला।।११०।

जला हृदय की भट्टी खींची मैंने आँसू की हाला,
छलछल छलका करता इससे पल पल पलकों का प्याला,
आँखें आज बनी हैं साकी, गाल गुलाबी पी होते,
कहो न विरही मुझको, मैं हूँ चलती फिरती मधुशाला!।१११।

कितनी जल्दी रंग बदलती है अपना चंचल हाला,
कितनी जल्दी घिसने लगता हाथों में आकर प्याला,
कितनी जल्दी साकी का आकर्षण घटने लगता है,
प्रात नहीं थी वैसी, जैसी रात लगी थी मधुशाला।।११२।

बूँद बूँद के हेतु कभी तुझको तरसाएगी हाला,
कभी हाथ से छिन जाएगा तेरा यह मादक प्याला,
पीनेवाले, साकी की मीठी बातों में मत आना,
मेरे भी गुण यों ही गाती एक दिवस थी मधुशाला।।११३।

छोड़ा मैंने पथ मतों को तब कहलाया मतवाला,
चली सुरा मेरा पग धोने तोड़ा जब मैंने प्याला,
अब मानी मधुशाला मेरे पीछे पीछे फिरती है,
क्या कारण? अब छोड़ दिया है मैंने जाना मधुशाला।।११४।

यह न समझना, पिया हलाहल मैंने, जब न मिली हाला,
तब मैंने खप्पर अपनाया ले सकता था जब प्याला,
जले हृदय को और जलाना सूझा, मैंने मरघट को
अपनाया जब इन चरणों में लोट रही थी मधुशाला।।११५।

कितनी आई और गई पी इस मदिरालय में हाला,
टूट चुकी अब तक कितने ही मादक प्यालों की माला,
कितने साकी अपना अपना काम खतम कर दूर गए,
कितने पीनेवाले आए, किन्तु वही है मधुशाला।।११६।

कितने होठों को रक्खेगी याद भला मादक हाला,
कितने हाथों को रक्खेगा याद भला पागल प्याला,
कितनी शक्लों को रक्खेगा याद भला भोला साकी,
कितने पीनेवालों में है एक अकेली मधुशाला।।११७।

दर दर घूम रहा था जब मैं चिल्लाता - हाला! हाला!
मुझे न मिलता था मदिरालय, मुझे न मिलता था प्याला,
मिलन हुआ, पर नहीं मिलनसुख लिखा हुआ था किस्मत में,
मैं अब जमकर बैठ गया हँू, घूम रही है मधुशाला।।११८।

मैं मदिरालय के अंदर हूँ, मेरे हाथों में प्याला,
प्याले में मदिरालय बिंिबत करनेवाली है हाला,
इस उधेड़-बुन में ही मेरा सारा जीवन बीत गया -
मैं मधुशाला के अंदर या मेरे अंदर मधुशाला!।११९।

किसे नहीं पीने से नाता, किसे नहीं भाता प्याला,
इस जगती के मदिरालय में तरह-तरह की है हाला,
अपनी-अपनी इच्छा के अनुसार सभी पी मदमाते,
एक सभी का मादक साकी, एक सभी की मधुशाला।।१२०।

वह हाला, कर शांत सके जो मेरे अंतर की ज्वाला,
जिसमें मैं बिंिबत-प्रतिबंिबत प्रतिपल, वह मेरा प्याला,
मधुशाला वह नहीं जहाँ पर मदिरा बेची जाती है,
भेंट जहाँ मस्ती की मिलती मेरी तो वह मधुशाला।।१२१।

मतवालापन हाला से ले मैंने तज दी है हाला,
पागलपन लेकर प्याले से, मैंने त्याग दिया प्याला,
साकी से मिल, साकी में मिल अपनापन मैं भूल गया,
मिल मधुशाला की मधुता में भूल गया मैं मधुशाला।।१२२।

मदिरालय के द्वार ठोंकता किस्मत का छंछा प्याला,
गहरी, ठंडी सांसें भर भर कहता था हर मतवाला,
कितनी थोड़ी सी यौवन की हाला, हा, मैं पी पाया!
बंद हो गई कितनी जल्दी मेरी जीवन मधुशाला।।१२३।

कहाँ गया वह स्वर्गिक साकी, कहाँ गयी सुरिभत हाला,
कहँा गया स्वपिनल मदिरालय, कहाँ गया स्वर्णिम प्याला!
पीनेवालों ने मदिरा का मूल्य, हाय, कब पहचाना?
फूट चुका जब मधु का प्याला, टूट चुकी जब मधुशाला।।१२४।

अपने युग में सबको अनुपम ज्ञात हुई अपनी हाला,
अपने युग में सबको अदभुत ज्ञात हुआ अपना प्याला,
फिर भी वृद्धों से जब पूछा एक यही उज्ञल्तऌार पाया -
अब न रहे वे पीनेवाले, अब न रही वह मधुशाला!।१२५।

'मय' को करके शुद्ध दिया अब नाम गया उसको, 'हाला'
'मीना' को 'मधुपात्र' दिया 'सागर' को नाम गया 'प्याला',
क्यों न मौलवी चौंकें, बिचकें तिलक-त्रिपुंडी पंिडत जी
'मय-महिफल' अब अपना ली है मैंने करके 'मधुशाला'।।१२६।

कितने मर्म जता जाती है बार-बार आकर हाला,
कितने भेद बता जाता है बार-बार आकर प्याला,
कितने अर्थों को संकेतों से बतला जाता साकी,
फिर भी पीनेवालों को है एक पहेली मधुशाला।।१२७।

जितनी दिल की गहराई हो उतना गहरा है प्याला,
जितनी मन की मादकता हो उतनी मादक है हाला,
जितनी उर की भावुकता हो उतना सुन्दर साकी है,
जितना ही जो रिसक, उसे है उतनी रसमय मधुशाला।।१२८।

जिन अधरों को छुए, बना दे मस्त उन्हें मेरी हाला,
जिस कर को छूू दे, कर दे विक्षिप्त उसे मेरा प्याला,
आँख चार हों जिसकी मेरे साकी से दीवाना हो,
पागल बनकर नाचे वह जो आए मेरी मधुशाला।।१२९।

हर जिहवा पर देखी जाएगी मेरी मादक हाला
हर कर में देखा जाएगा मेरे साकी का प्याला
हर घर में चर्चा अब होगी मेरे मधुविक्रेता की
हर आंगन में गमक उठेगी मेरी सुरिभत मधुशाला।।१३०।

मेरी हाला में सबने पाई अपनी-अपनी हाला,
मेरे प्याले में सबने पाया अपना-अपना प्याला,
मेरे साकी में सबने अपना प्यारा साकी देखा,
जिसकी जैसी रुिच थी उसने वैसी देखी मधुशाला।।१३१।

यह मदिरालय के आँसू हैं, नहीं-नहीं मादक हाला,
यह मदिरालय की आँखें हैं, नहीं-नहीं मधु का प्याला,
किसी समय की सुखदस्मृति है साकी बनकर नाच रही,
नहीं-नहीं किव का हृदयांगण, यह विरहाकुल मधुशाला।।१३२।

कुचल हसरतें कितनी अपनी, हाय, बना पाया हाला,
कितने अरमानों को करके ख़ाक बना पाया प्याला!
पी पीनेवाले चल देंगे, हाय, न कोई जानेगा,
कितने मन के महल ढहे तब खड़ी हुई यह मधुशाला!।१३३।

विश्व तुम्हारे विषमय जीवन में ला पाएगी हाला
यदि थोड़ी-सी भी यह मेरी मदमाती साकीबाला,
शून्य तुम्हारी घड़ियाँ कुछ भी यदि यह गुंजित कर पाई,
जन्म सफल समझेगी जग में अपना मेरी मधुशाला।।१३४।

बड़े-बड़े नाज़ों से मैंने पाली है साकीबाला,
किलत कल्पना का ही इसने सदा उठाया है प्याला,
मान-दुलारों से ही रखना इस मेरी सुकुमारी को,
विश्व, तुम्हारे हाथों में अब सौंप रहा हूँ मधुशाला।।१३५।

Wednesday, July 28, 2010

महत्वाकांक्षाएं उजागर नहीं करना चाहते रमन सिंह!

रायपुर।

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डा रमन सिंह ने दो टूक शब्दों मे यह साफ कर दिया है कि उन्हें केन्द्र की राजनीति मे कोई दिलचस्पी नही है और उनका संपूर्ण ध्यान केवल प्रदेश के उत्थान कार्यों पर केंद्रित है। उनके इस बयान से प्रदेश भारतीय जनता पार्टी के कुछ महत्वाकांक्षी नेताओं को वाकई निराशा हुई होगी जो यह मानकर चल रहे थे कि आने वाले समय मे रमन सिंह अपना राजनैतिक ग्राफ बढ़ाने के लिए केंद्र की ओर अवश्य रुख़ करेंगे जिससे उनके मुख्यमंत्री बनने के सपने सच हो सकते हैं। तो क्या यह मान लिया जाए कि रमन सिंह भाजपा के राष्ट्रीय स्तर के दूसरी पंक्ति के उन नेताओं मे शामिल नही हैं जो सन 2014 के आम चुनाव मे स्वयं को पार्टी के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार के रूप मे देखने का सपना संजोए बैठे हैं? शायद यह कहना जल्दबाज़ी होगा। क्योंकि रमन सिंह ने यह मंशा राजनीति के वर्तमान परिप्रेक्ष्य मे ज़ाहिर की है और हम यह निश्चित तौर पर नही मान सकते कि वे भविष्य मे भी केंद्र के राजनीतिक अखाड़े मे अपना भाग्य आज़माने से परहेज़ करेंगे।
अब तक इतिहास गवाह रहा है कि नेता पहले अपने राजनैतिक व्यक्तित्व को प्रदेश स्तर पर एक पहचान देने का प्रयत्न करते हैं तदुपरांत केंद्र की बिसात मे अपना दांव खेलते हैं। मगर रमन सिंह ने यह इंगित कर दिया है कि वे किसी भी तरह की जल्दबाज़ी मे नही हैं और वर्तमान मे उनका केवल एक ही उद्देश्य है - छत्तीसगढ़ मे भाजपा को एक अभेद्य पार्टी के रूप मे स्थापित करना। इस संदर्भ मे उनके प्रयासों को नकारा भी नही जा सकता जिसका प्रत्यक्ष उदाहरण है भाजपा का लगातार दूसरी बार छत्तीसगढ़ की सत्ता पर क़ाबिज़ होना। इसी तारतम्य मे रमन सिंह ने वर्तमान लोक सभा चुनाव मे भी पार्टी के सबसे लोकप्रिय नेता के रूप मे अपने प्रत्याशियों के लिए धुआंधार प्रचार किया।
नक्सलवाद से निपटने के लिए रमन सरकार का आरंभ किया 'सलवा जुड़ूम' अभियान भी पार्टी की छवि संवारने मे काफ़ी कारगर सिद्ध हुआ। इस अभियान की सबसे बड़ी ख़ासियत थी इससे जुड़ने वाले विभिन्न विचारधारा के लोग, जिनमे प्रदेश के पूर्व नेता प्रतिपक्ष एवं कॉंग्रेस के कद्दावर आदिवासी नेता महेंद्र कर्मा भी शामिल थे। हालाँकि इस अभियान की आलोचना भी खूब हुई और देश के तमाम राजनीतिक, सामाजिक एवं गैर सरकारी संगठनों ने सलवा जुड़ूम को असफल करार देते हुए कहा कि राज्य सरकार मासूम आदिवासियों की जान को ख़तरे डाल रही है। वहीं केंद्र मे कॉंग्रेस-शासित संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन सरकार ने भी इस अभियान की कार्यप्रणाली पर ही प्रश्नचिन्ह खड़ा कर दिया, मगर साथ ही सावधानीपूर्वक इस मुद्दे मे किसी प्रकार के हस्तक्षेप करने से इनकार करते हुए कहा की यह राज्य सरकार का अन्दरूनी मामला है।
छप्पन वर्षीय रमन सिंह ने सन 2003 मे जब पहली बार प्रदेश की कमान अपने हांथों मे ली तब यह क़यास जा रहा था की वो अधिक दिनो तक मुख्यमंत्री पद पर टिक नही सकेंगे। शुरुआती दौर मे ना केवल विपक्षी कॉंग्रेस पार्टी उनकी कार्यक्षमता पर संशय करती थी बल्कि उनकी अपनी पार्टी के कुछ नेता भी उन्हें मुख्यमंत्री पद के लिए अनुपयुक्त मानते थे क्योंकि उनका अधिकाँशतः राजनैतिक अनुभव संगठन के कार्यों का था, सत्ता चलाने का नही। परंतु उन्होंने अपनी स्वच्छ छवि और सधी हुई कार्यकुशलता से सभी अटकलों पर पूर्ण विराम लगा दिया और ना केवल सफलतापूर्वक पाँच साल का कार्यकाल पूर्ण किया बल्कि यह भी सुनिश्चित किया कि पार्टी सन 2008 का विधान सभा चुनाव एकजुट होकर लड़े।
किंतु राजनीतिक विशेषज्ञ मानते हैं जनता ने रमन सिंह की भाजपा सरकार को दोबारा मौका इसलिए दिया क्योंकि प्रदेश कॉंग्रेस का ध्रुवीकरण हो गया था और पार्टी के दिग्गज नेता अपने अपने चहेतों को टिकट दिलाने के लिए आपस मे होड़ लगाने मे अधिक व्यस्त थे बनिस्बत पार्टी की सुध लेने के। कॉंग्रेसी कार्यकर्ता भी दबी ज़ुबान मे स्वीकार करने से नही चूकते कि पार्टी को पराजय का दंश इसलिए झेलना पड़ा क्योंकि उनके आला नेताओं को सही समय पर संगठित होना नही आया। इस लोक सभा चुनाव मे भी कॉंग्रेसी नेताओं ने परस्पर सहयोग की भावना को ताक पर रख दिया और प्रचार प्रसार के अवसरों पर बिखरे बिखरे दिखे। वहीं भाजपाइयों के उत्साह मे भरपूर इज़ाफ़ा दिखा क्योंकि हाल ही मे उन्होंने विधान सभा चुनाव मे जीत का स्वाद चखा था।
इसका ये मतलब कतई नही है कि भाजपा मे कोई असंतोष के स्वर नही सुनाई पड़ते या उसकी मुश्किलों मे कोई कमी आई है। अलबत्ता राजनैतिक पार्टियों का तो मुश्किलों से चोली दामन का साथ होता है फिर भाजपा इससे कैसे अछूती रह सकती है। इसका ताज़ा उदाहरण है हाल ही मे संपन्न विधान सभा चुनाव मे भाजपा के 65 कार्यकर्ताओं के पार्टी-विरोधी कार्यों मे लिप्तता के मद्देनज़र पार्टी द्वारा लिया गया कठोर निर्णय जिनमे 30 लोगों को निष्कासित कर दिया गया एवं बाकी 35 लोगों को पार्टी से निलंबित कर दिया गया। निष्कासितों की सूची मे भाजपा के दिग्गज नेता और चार बार चुने गये सांसद ताराचंद साहू भी शामिल थे जिनपर यह आरोप था कि उन्होने खुलेआम अपनी ही पार्टी के दुर्ग विधान सभा के उम्मीदवार एवं तत्कालीन विधान सभा अध्यक्ष प्रेम प्रकाश पांडे को हराने के लिए मोर्चा खोल दिया था जिसके फलस्वरूप पांडे को हार का मुँह देखना पड़ा। निष्कासन ने ताराचंद साहू के तेवर को और तीखे कर दिए जिसके परिणामस्वरूप उन्होने रमन सरकार की कार्यप्रणाली से लेकर भाजपा की नीतियों के विरुद्ध ऐसे ऐसे तल्ख़ बयान दिए जिससे पार्टी के पैरों तले ज़मीन खिसक गयी। साथ ही उन्होने वर्तमान संसदीय चुनाव मे दुर्ग क्षेत्र से निर्दलीय प्रत्याशी के रूप मे चुनाव लड़कर ‘स्थानीय विरुद्ध बाहरी प्रत्याशी’ के मुद्दे को जमकर हवा दी जिससे दोनो भाजपा तथा कॉंग्रेस के वोट बैंकों पर भारी सेंध पड़ने की आशंका ज़ाहिर की जा रही है।
मगर रमन सिंह इन कठिन परिस्थितियों मे भी अविचलित नज़र आए। उन्होने किसी भी निष्कासित अथवा निलंबित नेता के विरुद्ध सार्वजनिक तौर पर ग़ैरज़िम्मेदाराना बयान देने के बजाय पार्टी आलाकमान के निर्णय का सम्मान करते हुए खामोशी अख्तियार करना ही बेहतर समझा। पार्टी हलकों मे कहा जाता है की इस तरह की राजनैतिक सूझबूझ तथा परिपक्वता की वजह से ही रमन सिंह की गिनती राष्ट्रीय भाजपा के दूसरी पंक्ति के दमदार नेताओं मे की जाती है। जोड़तोड़ की राजनीति मे भी रमन सिंह को माहिर कहा जाता है। यही वजह है कि प्रदेश मे किसी भी भाजपा नेता ने अब तक उनके विरुद्ध गुटबाजी करने का दुस्साहस नही किया। और यदि किसी ने अपने बलबूते असंतोष ज़ाहिर किया भी तो उसको या तो उसके क्षेत्र की राजनीति तक ही सीमित कर दिया गया अथवा पार्टी हाईकमान से झिड़की दिलवा दी गयी।
रमन सिंह को मिस्टर क्लीन कहा जाता है। अभी तक उनकी राजनैतिक छवि बेदाग रही है। यहाँ तक की बोलते समय भी वे पार्टी के विचारों को अधिक प्रकट करते हैं और स्वयं की महत्वाकांक्षाओं को उद्घृत करने से बचते हैं। पार्टी सूत्र कहते हैं की भाजपा मे बोलने वाले नेताओं की लंबी कतार है परंतु कुछ कर के दिखाने वाले लोगों मे रमन सिंह गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र भाई मोदी से कंधे से कंधा मिलते हुए नज़र आते हैं। कहा जाता है की रमन सिंह ना केवल पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजनाथ सिंह के चहेते हैं बल्कि भाजपा के पी एम-इन-वेटिंग लाल कृष्ण आडवाणी को भी उनकी कार्यशैली पसंद आती है।

ये रमन सिंह की उपलब्धि ही कही जाती है कि उनके द्वारा प्रदेश मे ग़रीबों के लिए लागू की गयी तीन रुपये किलो चावल की सफल योजना को पार्टी लोक सभा चुनाव जीतने पर पूरे देश मे लागू करने की बात कह रही है। पार्टी कार्यकर्ता कहते हैं की रमन सिंह मे वो सारी खूबियाँ मौज़ूद हैं जो एक राष्ट्रीय स्तर के नेता मे होना चाहिए मगर वे पार्टी आलाकमान के समक्ष अपनी इच्छाओं को बोल कर प्रदर्शित करने के बजाय उन्हें अपने कर्मों से संप्रेषित करने मे ज़्यादा विश्वास रखते हैं। कहने वाले कह रहे हैं कि वैसे भी केंद्र मे राजनीति करने का फ़ैसला करने के लिए उनके पास पर्याप्त समय है क्योंकि सन 2014 के आम चुनाव के पहले सन 2013 मे छत्तीसगढ़ मे विधान सभा चुनाव होना है जिसके परिणाम के अनुरूप ही रमन सिंह कोई राजनैतिक कदम उठाने की सोचेंगे।

Google+ Followers

Followers